उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में जनसंख्या नीति पर एक कानून बनाया है. विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर लखनऊ में आयोजित एक कार्यक्रम में सीएम ने नई जनसंख्या नीति का अनावरण किया है. इस मौके पर सीएम ने कहा कि अधिक समान वितरण के साथ सतत् विकास को जागरुकता पैदा करने को भी रेखांकित किया है. तो चलिए कुछ प्वाइंट्स में आपको बताते हैं कि जनसंख्या नीति में क्या-क्या मुख्य बातें हैं.

यह भी पढ़ें- भूलकर भी फ्रिज में नहीं रखें ये फल, सेहत पर पड़ सकता है असर

1. जनसंख्या नीति-2021 के बिल में ज्यादा से ज्यादा बच्चे रखने वालों को सरकारी नौकरी और सरकारी योजनाओं के लाभों से वंचित किया जाएगा.

2. दो बच्चे वाली पॉलिसी का पालन नहीं करने वालों को भत्तों से भी वंचित करने का प्रावधान होगा.

3. दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकाय चुनाव लड़ने से रोकने का प्रस्ताव किया गया है.

ये भी पढ़ें: अमूल के बाद अब मदर डेयरी ने भी बढ़ाए दूध के दाम, नए रेट देखें

4. इस बिल में 4 लोगों का ही राशन कार्ड पर एंट्री सीमित करने का प्रावधान होगा.

5. 77 तरह की सरकारी योजनाओं और अनुदान से भी वंचित करने का करने का प्रावधान होगा.

6. सरकारी नौकरी जो दो बच्चों की पॉलिसी का पालन करेंगे उन्हें राष्ट्रीय पेंशन योजना के अंतर्गत पूरी सेवा के दौरान दो ज्यादा वेतन में वृद्धि होगी.

यह भी पढ़ें- क्या है योगी सरकार की नई जनसंख्या नीति? यूपी में हुई लागू