टोक्यो पैरालंपिक (Tokyo Paralympics) में भारत को भाविना पटेल ने पहला मेडल दिला दिया है. इसके साथ ही उन्होंने पैरालंपिक में टेबल टेनिस में मेडल जीतने वाली पहली महिला खिलाड़ी बनकर इतिहास रच दिया है. भाविना की इस सफलता के बाद पूरा देश खुश है और उन्हें बधाईयां दी जा रही है. वहीं, भाविना पटेल भी खुश है कि उन्होंने देश के लिए मेडल जीता है. हालांकि, भाविना फाइनल मैच हार गई और वह गोल्ड जीतने से चुक गईं.

यह भी पढ़ेंः मन की बात: पीएम मोदी ने कहा- 'कुछ नया सोचें तो मुझे जरूर बताएं, युवा कुछ नया करना चाहता है'

जीत के बाद भाविना पटेल ने कहा, मैं बहुत खुश हूं कि पैरालंपिक में पहली बार पैरा टेबल टेनिस में पहली बार भारतीय महिला ने पदक जीतकर इतिहास रचा. मैं कोच को धन्यवाद देती हूं. मेरे रिश्तेदारों ने बहुत प्रेरित किया.

वहीं उन्होंने कहा, मेरे जितने भी चाहने वाले है उन्हें और सभी देशवासियों को यह मेडल समर्पित करना चाहती हूं. उनके सहयोग से मैं यहां नहीं पहुंच सकती थी.

इसके साथ ही भारतीय पैरालंपिक समिति की अध्यक्ष, दीपा मलिक ने कहा, भाविना पटेल के रजत पदक ने इतिहास रच दिया है और वो भी राष्ट्रीय खेल दिवस के दिन. मेरे लिए इससे बड़ी खुशी की बात क्या होगी कि एक महिला ख़िलाड़ी ने मेडल का खाता खोला है और वह महिला खिलाड़ी भी ऐसी, जो व्हील चेयर का इस्तेमाल करती है.

यह भी पढ़ेंः आजादी के अमृत महोत्सव से नेहरू की तस्वीर गायब, कांग्रेस ने कहा- 'दिल से कैसे निकालोगे'

बता दें, भाविना पटेन फाइनल मैच में चीन की यिंग से भिड़ंत हुई लेकिन वह ये मैच हार गई और गोल्ड से एक कदम पीछे रह गई. लेकिन उन्होंने अपने नाम सिल्वर मेडल कर लिया है. भाविना पटेल का टोक्यो पैरालंपिक में सफर बेहद ही शानदार रहा. भाविना पटेल ने अपने प्रदर्शन से सभी को प्रभावित किया. वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर 12 पर मौजूद भाविना पटेल बड़े बड़े खिलाड़ियों को मात देकर आगे बढ़ीं.

टोक्यो पैरालंपिक में टेबल टेनिस में रजत पदक जीतने वाली खिलाड़ी भाविना पटेल के जीत पर गुजरात में जश्न मनाया जा रहा है. वहीं, उनके घर मेहसाणा में उनके परिवारजनों, दोस्तों और रिश्तेदारों ने जश्न मनाया. उन्होंने मिठाईयां बांटी और गरबा कर जीत की खुशी जाहिर की.

यह भी पढ़ेंः सितंबर महीने हो रहा है आपकी जेब पर असर डालने वाले बदलाव, जान लें