भारत में दो कोरोना वायरस वैक्सीन का पहले से इस्तेमाल किया जा रहा है. वहीं, अब तीसरे वैक्सीन जल्द ही भारत में आने की उम्मीद है. सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आदर पूनावाला ने शनिवार को कहा कि उनकी कंपनी ने कोविड-19 के एक और टीके का परीक्षण शुरू करने के लिए आवेदन किया है तथा संस्थान को जून 2021 तक इसके उत्पादन की उम्मीद है.

SII पहले ही ‘कोविशील्ड’ टीके का उत्पादन कर रहा है जिसे ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और ब्रिटिश-स्वीडिश कंपनी एस्ट्राजेनका ने विकसित किया है. देश में अभी चल रहे टीकाकरण अभियान के लिए केंद्र ने ‘कोविशील्ड’ टीके की एक करोड़ 10 लाख खुराक खरीदी हैं.

अमेरिका में क्यों तोड़ी गई 'महात्मा गांधी' की प्रतिमा? अधिकारियों ने दर्ज की रिपोर्ट

वहीं, आपतकालीन स्थिति के लिए कोवैक्सीन टीके का भी इस्तेमाल किया जा रहा है.

पूनावाला ने एक ट्वीट में कहा, “नोवावैक्स के साथ कोविड-19 टीके के लिए हमारी साझेदारी ने उत्कृष्ट प्रभावी नतीजे दिए हैं. हमने भारत में परीक्षण शुरू करने के लिए आवेदन किया है. जून 2021 तक ‘कोवोवैक्स’ का उत्पादन शुरू करने की उम्मीद है.”

बता दें, देश भर में कोविड-19 के खिलाफ 16 जनवरी को टीकाकरण अभियान शुरू हुआ था और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा था कि इसमें करीब तीन करोड़ स्वास्थ्यकर्मियों तथा कोविड-19 के खिलाफ अग्रिम मोर्चे पर काम करने वालों को प्राथमिकता दी जाएगी.

गौरतलब है कि देश में अब तक करीब 30 लाख लोगों को COVID-19 का टीका लगाया जा चुका है. अब फरवरी के पहले सप्ताह से फ्रंटलाइन वर्कर्स को कोराना का टीका लगाया जाएगा. इसके लिए सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को दिशानिर्देश जारी किए हैं.

रिपोर्ट नॉर्मल होने पर BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली को अस्पताल से मिली छुट्टी, फैंस हुए खुश