नयी दिल्ली, 26 मई (भाषा) दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बुधवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में महामारी से निपटने को लागू किए गए लॉकडाउन का असर दिख रहा है और कोविड-19 के दैनिक मामलों में कमी आई है। साथ ही संक्रमण की दर में भी गिरावट जारी है।

जैन ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि शहर में अब तक ब्लैक फंगस के करीब 600 मामले सामने आए हैं, जिनमें से 200 से अधिक मामले केवल 23 मई को दर्ज किए गए।

उन्होंने कहा, '' कल, 2.14 फीसदी संक्रमण दर के साथ 1,568 मामले सामने आए थे। आज का स्वास्थ्य बुलेटिन जल्द जारी होगा और इन आंकड़ों में और भी गिरावट हुई है। यह लॉकडाउन का सीधा असर जान पड़ता है।''

मंत्री ने कहा कि अब बड़ी संख्या में बिस्तर उपलब्ध हैं और करीब एक तिहाई आईसीयू बिस्तर खाली हैं।

कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर के बीच दिल्ली में 19 अप्रैल को लॉकडाउन लागू किया गया था, जिसे कई बार आगे बढ़ाया गया है।

दूसरी लहर के दौरान बड़ी संख्या में डॉक्टरों की मौत होने के सवाल पर जैन ने कहा कि कोई भी मौत दुर्भाग्यपूर्ण है और कोविड की दूसरी लहर के चलते शहर में करीब 10,000 लोगों की जान चली गई।

ब्लैक फंगस के मामलों पर उन्होंने कहा कि 23 मई को म्यूकोरमाइकोसिस के 200 से अधिक मामले आए थे और उसके बाद प्रतिदिन करीब सौ मामले आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान में ब्लैक फंगस के कुल 600 मामले हैं।

उन्होंने कहा, '' निजी एवं सरकारी दोनों ही तरह के अस्पतालों में ब्लैक फंगस का उपचार हो रहा है। लेकिन, मरीजों के लिए इंजेक्शन की जरूरत है। प्रत्येक मरीज को एक दिन में छह इंजेक्शन की जरूरत होती है। हमे कल 370 इंजेक्शन मिले थे और उसके बाद करीब 400 मिले। हम एक बार फिर केंद्र से इंजेक्शन की आपूर्ति बढ़ाने का अनुरोध करते हैं।''

कब्रिस्तान और श्मशान के कर्मियों को अग्रिम मोर्चा कर्मी का दर्जा देने के सवाल पर मंत्री ने कहा, '' हम इस पर विचार करेंगे।''