मुंबई, 28 अप्रैल (भाषा) कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने बुधवार को मोदी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि भारत में मौजूदा कोविड-19 संकट की वजह‘ अक्षम’ नेतृत्व और उसकी ‘ निर्दयता’ है।

उन्होंने चिकित्सीय ऑक्सीजन की कमी के लिए केंद्र को जिम्मेदार ठहराया।

एक बयान जारी कर पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ऑक्सीजन संकट के लिए केंद्र ‘पूरी तरह से जिम्मेदार’ है।

उन्होंने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन का नाम लिए बिना कहा कि उन्हें तुरंत हटाया जाना चाहिए।

चव्हाण ने 20 अक्टूबर को के्ंद्रीय स्वास्थ्य सचिव द्वारा संवाददाता सम्मेलन में की गई टिप्पणी को भी याद दिलाया जिसमें उन्होंने कहा था कि ऑक्सीजन की आपूर्ति के मामले में भारत बहुत ही सही स्थिति में और इसकी कोई कमी नहीं है।

चव्हाण ने कहा कि के्ंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने बताया था कि केंद्र सरकार अतिसक्रियता से देशभर के 390 अस्पतालों में पीएसए (प्रेशर स्विंग ऐड्सॉर्प्शन) लगाने की योजना बना रही है, कोविड-19 के मामलों में वृद्धि की आशंका के चलते एक लाख मीट्रिक टन ऑक्सीजन के आयात के लिए पहल की है।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘इससे स्पष्ट है कि सरकार ऑक्सजीन आपूर्ति सुनिश्चित करने में बुरी तरह से असफल हुई है जिससे यह अभूतपूर्व ऑक्सीजन संकट उत्पन्न हुआ है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘सरकार को जवाब देना चाहिए कि कैसे मंत्रालय ने माना कि ऑक्सीजन की आपूर्ति पर्याप्त है। क्यों नहीं एक लॉख मीट्रिक टन ऑक्सीजन आयात करने की योजना पर गत पांच महीने में प्रभावी तरीके से अमल नहीं किया गया।’’

उन्होंने जानना चाहा कि क्या योजना में निर्धारित 33 प्रतिशत पीएसए ऑक्सीजन जेनरेटर अबतक स्थापित हुए हैं या नहीं।

चव्हाण ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विश्व आर्थिक मंच पर स्वयं कोविड-19 महामारी पर जीत की घोषणा की जिससे वैश्विक समुदाय भौंचक रह गया था, खासतौर पर तब जब 50 से अधिक देशों भारत से आने वाली उड़ानों पर रोक लगाई है। अब भारत उन देशों से ऑक्सीजन और अन्य चिकित्सीय आपूर्ति की मांग कर रहा है।’’

चव्हाण ने कहा, ‘‘ जनता ‘अक्षम नेतृत्व’ की भारी कीमत चुका रही है जिसके आत्मसंतोष और निर्दयता ने भारत को इस त्रासदी में धकेल दिया है।’’