रांची, 23 मई (भाषा) झारखंड में कोविड-19 महामारी की वजह से पिछले 24 घंटे में 41 लोगों की मौत हुई है, जो मई महीने में सबसे कम है। राज्य में संक्रमण की वजह से मरनेवालों की संख्या में गिरावट दर्ज किये जाने के बीच मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि राज्य में आंशिक लॉकडाउन की वजह से महामारी के खिलाफ संघर्ष में सफलता मिल रही है।

सोरेन ने कहा कि जरूरत पड़ने पर सरकार कड़े कदम उठाने में हिचक नहीं रही है और शहरी इलाकों में संक्रमण के प्रसार की श्रृंखला तोड़ने के बाद अब उसका ध्यान ग्रामीण इलाकों को इससे बचाने पर केंद्रित है।

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘आजीविका और जीवन की इस लड़ाई में हम दोनों को बचाने के लिए पूरी सावधानी के साथ काम कर रहे हैं।’’

संक्रमण की तीसरी लहर की आशंका के बीच इससे संबंधित तैयारियों की समीक्षा के लिए सोरेन ने अस्पताल, चिकित्सा कॉलेज, डॉक्टरों और शिशु चिकित्सकों के साथ वेबिनार किया। मुख्यमंत्री सोमवार को इस संबंध में मंत्रियों के साथ बैठक करेंगे।

इसी बीच स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन में बताया गया कि राज्य में कोरोना मरीजों के बीच स्वस्थ होने की दर 91.68 फीसदी है, जो कि राष्ट्रीय औसत 87.80 फीसदी से ज्यादा है। राज्य में संक्रमण की वजह से 41 और लोगों की मौत के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 4,801 हो गई। इस महीने दो मई को राज्य में रिकॉर्ड 159 लोगों की मौत संक्रमण की वजह से हुई थी।

राज्य में अब 22,566 मरीजों का उपचार चल रहा है और अब तक 3,01,705 मरीज संक्रमण मुक्त हो चुके हैं। संक्रमण के 2,037 नए मामले सामने आने के बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3,29,072 हो गई। संक्रमण की दूसरी लहर से बेहद प्रभावित राज्य में 27 मई तक लॉकडाउन बढ़ा दिया गया है।