केनिलवर्थ (अमेरिका), 28 अप्रैल (एपी) दवा कंपनी मर्क ने कोविड-19 की दवा रेमडेसिविर के समान मानी जाने वाली प्रयोगिक एंटीवायरल गोलियों मोलनुपिराविर के उत्पादन के लिये भारत में पांच जेनेरिक दवा निर्माताओं के साथ करार करने की घोषणा की है।

अमेरिका में इस दवा का अंतिम चरण का परीक्षण अभी शुरु हुआ है और यह स्पष्ट नहीं है कि इस दवा का भारत या कहीं और कब इस्तेमाल किया जाएगा। इस दवा पर किये गए अध्ययन में उत्साहजनक परिणाम सामने आए हैं, जिनमें पता चला है कि संक्रमित होने के तुरंत बाद इसके सेवन से वायरस के स्तर में तेजी से गिरावट आती है।

अस्पतालों में भर्ती कुछ रोगियों पर इसका व्यापक इस्तेमाल किया जा रहा है लेकिन इसे इंजेक्शन से लेना होता है, जिसके कारण इसका उपयोग सीमित किया जाता है।

एमोरी यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर डॉक्टर जॉर्ज पेंटर ने इस दवा की खोज में मदद की है। उनके अनुसार मोलनुपिराविर कई प्रकार के श्वसन संबंधी वायरस के खिलाफ कारगर प्रतीत हुई है। मर्क रिजबैक बायोथेराप्यूटिक्स के साथ मिलकर मोलनुपिराविर विकसित कर रहा है।