केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और अन्य बीमारियों से पीड़ित 45-59 वर्ष के लोगों के लिए पंजीकरण शुरू होने से पहले राज्यों एवं जिलों को कोविड-19 टीकाकरण केंद्रों (सीवीसी) का पूर्व पंजीकरण को-विन 2.0 पोर्टल पर कराना जरूरी होगा ताकि नागरिकों को सीवीसी की सूची उपलब्ध हो सके.

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार पंजीकरण एक मार्च सुबह 9 बजे से शुरू होगा. पात्र लाभार्थी अपनी पसंद का केंद्र चुन सकते हैं और उपलब्ध स्लॉट के आधार पर अपॉइंटमेंट बुक कर सकते हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा को-विन 2.0 पर जारी दिशानिर्देश नोट के अनुसार राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को एक टीकाकरण चक्र में दी जाने वाली खुराक की संख्या तय करना होगा. जहां तक टीकाकरण स्लॉट का संबंध है, इन्हें आगे मोबिलाइजेशन स्लॉट और ओपन स्लॉट के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है. मोबिलाइजेशन स्लॉट वे होते हैं जिनके लिए संबंधित राज्य और केंद्रशासित प्रदेश ऑन-साइट पंजीकरण, अपॉइंटमेंट, सत्यापन और टीकाकरण के लिए लाभार्थियों को जुटाएंगे.

यह भी पढ़ें- पीएम मोदी ने लगवाई कोविड-19 वैक्सीन, मुस्कुराते चेहरे के साथ शेयर की तस्वीर, कही ये बात

इसके लिए ऑनलाइन इंटरफेस के माध्यम से लाभार्थियों के लिए पूर्व-पंजीकरण की कोई आवश्यकता नहीं होगी. ऐसे स्लॉट का अनुपात संबंधित राज्य और केंद्र सरकार द्वारा तय किया जाएगा. सामान्य नागरिकों के लिए ओपन स्लॉट ऑनलाइन अपॉइंटमेंट के लिए खुले रहेंगे. एक सत्र के लिए ओपन स्लॉट की संख्या सीवीसी सत्र क्षमता से आरक्षित स्लॉट घटाकर तय की जाएगी.

दिशानिर्देश नोट, ‘‘यह अनुशंसा की जाती है कि शुरूआत में कोई भी विशेष कोविड-19 टीकाकरण केंद्र (सीवीसी) या तो पूरी तरह से आरक्षित हो सकता है या उसकी पूर्ण क्षमता ऑनलाइन सेल्फ-अपॉन्टेंट के लिए खोली जा सकती है, ताकि वहां कतार प्रबंधन में भ्रम और समस्याओं से बचा जा सके.’’

यह भी पढ़ें-कोरोना वैक्सीनेशन के दूसरे फेज की शुरुआत 1 मार्च से, जानें कौन और कैसे लगवा सकता है टीका