प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहली बार 'देव दीपावली' के अवसर पर उपस्थित होकर काशी की मनोरम छटा के साक्षी बने. पीएम मोदी ने बौद्ध तीर्थस्थल सारनाथ जाकर लाइट एण्ड साउंड शो में हिस्सा लिया जहां, भगवान के शिव के एक भजन पर झूम उठे.

पीएम मोदी ने अपने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें भगवान का शिव का भजन के साथ लाइट शो चल रहा है. भगवान शिव के भजन को सुनकर पीएम मोदी भी मंत्रमुग्ध हो गए. ये वीडियो अब वायरल हो रहा है.

कार्तिक पूर्णिमा को मनायी जाने वाली इस देव दीपावली पर गंगा के दोनों किनारों पर 11 लाख दीप जलाये गये.

प्रधानमंत्री अपने एक दिवसीय काशी दौरे पर कई अन्य कार्यक्रमों में भी शरीक हुए.

मोदी विशेष क्रूज के जरिये डुमरी घाट से ललिता घाट गये. उन्होंने काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा—अर्चना की और काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरीडोर परियोजना की कार्यप्रगति का मुआयना भी किया. इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी उनके साथ थे.

उसके बाद प्रधानमंत्री राजघाट पहुंचे और दीया जलाकर बनारस की विश्वप्रसिद्ध देव दीपावली का शुभारंभ किया. साथ ही 'पावन पथ वाराणसी.इन' वेब पोर्टल की शुरुआत भी की.

मोदी ने देव दीपावली के आयोजन में शिरकत पर खुशी जाहिर करते हुए कहा ''आज जब काशी की विरासत वापस लौट रही है तो ऐसा लग रहा है जैसे काशी, माता अन्नपूर्णा के आगमन की खबर सुनकर सजी-संवरी हो. लाखों दीपों से काशी के 84 घाटों का जगमग होना अद्भुत है. गंगा की लहरों में यह प्रकाश इस आभा को और भी अलौकिक बना रहा है.''

उन्होंने कहा ''आज हम जिस देव दीपावली के दर्शन कर रहे हैं इसकी प्रेरणा पहले पंचगंगा घाट पर स्वयं आदि शंकराचार्य जी ने दी थी. बाद में अहिल्याबाई होल्कर जी ने इस परंपरा को आगे बढ़ाया. कहते हैं कि जब त्रिपुरासुर नामक दैत्य ने पूरे संसार को आतंकित कर दिया था तब भगवान शिव ने कार्तिकी पूर्णिमा के दिन उसका अंत किया था. आतंक, अत्याचार और अंधकार के उस अंत पर देवताओं ने महादेव की नगरी में आकर दीये जलाकर दिवाली मनाई थी. देवों की वह दीपावली ही देव दीपावली है.''