अफगानिस्तान में करीब एक साल पहले तक एक बड़े मंत्री पद की जिम्मेदारी निभा रहे सैयद अहमद शाह सादत (Syed Ahmad Shah Sadat) आज जर्मनी में पिज्जा डिलीवरी करने पर मजबूर हैं. अहमद शाह सादत साल 2020 तक अफगानिस्तान में कम्यूनिकेशन और आईटी मिनिस्टर थे. फिर साल 2020 में उन्होंने अफगानिस्तान छोड़ दिया था. जिसके बाद वह जर्मनी आकर जर्मनी के लीपज़िग शहर में खाना डिलीवरी का काम करने लगे.

लीपज़िग शहर के स्थानीय अखबार Leipziger Volks Zeitung की रिपोर्ट के अनुसार सादत अब जर्मनी के शहर लीपजिग में फूड डिलीवरी ब्वॉय का काम कर रहे हैं. जिसके बाद सोशल मीडिया पर भी सादत डिलीवरी ब्वॉय के कपड़ों में पिज्जा डिलीवरी करते देखे जा रहे हैं.  

यह भी पढ़ें: ग्वांतानामो जेल में 6 साल बिताने वाला बना अफगानिस्तान का 'तालिबानी' रक्षामंत्री, जानें इसके बारे में

अशरफ गनी से हो गया था मतभेद

साल 2018 में सादत को अफगानिस्तान का कम्युनिकेशन मिनिस्टर बनाया गया था. इसके बाद साल 2020 में उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. इसकी वजह तब के अफगानी राष्ट्रपति अशरफ गनी (Ashraf Ghani) से मतभेद बताए जा रहे थे. जिसके बाद ही वह इस हालत में हैं. पैसों की कमी के चलते उन्हें एक पिज्जा डिलीवरी का काम करना पड़ रहा है.

यह भी पढ़ें: क्या है पंजशीर? अफगानिस्तान में तालिबान के खिलाफ खड़ी इकलौती ताकत

सादत की डिग्री देख रह जाएंगे दंग  

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सादत के पास दो मास्टर डिग्री हैं. जिनमें से एक ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से कम्यूनिकेशन और दूसरी डिग्री इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग में है. इसके अलावा उन्होंने कुल 13 देशों की 20 कंपनियों में कम्युनिकेशन के क्षेत्र में काम किया है.

यह भी पढ़ें: CIA डायरेक्टर बर्न्स ने तालिबान नेता मुल्ला बरादर से खुफिया मुलाकात की: रिपोर्ट 

टेलीकॉम कंपनी में काम करने की जताई इच्छा

सादत के अनुसार वह जर्मनी में काफी खुश हैं और सेफ फील कर रहे हैं. यहां वे अपने परिवार के साथ अच्छा समय बिता रहे हैं. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह एक जर्मन कोर्स करना चाहते हैं और आगे पढ़ना चाहते हैं. उनका सपना एक जर्मन टेलीकॉम कंपनी में काम करने का है. अफगानिस्तान के हालात पर बोलते हुए सादत ने कहा कि उन्हें उम्मीद नहीं थी कि अशरफ गनी की सरकार इतनी जल्दी घुटने टेक देगी.

यह भी पढ़ें: अफगानिस्तान में तालिबान संकट: पीएम मोदी ने व्लादिमीर पुतिन से फोन पर लंबी बात की