लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) ने ऐलान किया है कि पार्टी पश्चिम बंगाल और असम की सभी सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी. इस ऐलान के साथ ही सियासत गर्म हो गई है. एक ओर एनडीए की बैठक में एलजेपी का शामिल न होना और दूसरे राज्यों में बिना गठबंधन चुनाव लड़ने की घोषणा ने फिर से एक नया सस्पेंस खड़ा कर दिया है कि, एलजेपी एनडीए गठबंधन में है या नहीं.

इससे पहले खबर आई थी की बजट सत्र से पहले एनडीए दल की बैठकों में एलजेपी शामिल होगी. लेकिन बाद में ऐसा कहा गया है कि चिराग पासवान की तबीयत ठीक नहीं होने की वजह से वह बैठक में शामिल नहीं होंगे.

राहुल गांधी का कुकिंग वीडियो वायरल, तमिलनाडु में दौरे पर 'कलान बिरयानी' का लिया लुफ्त

इसके बाद ही पार्टी के महासचिव अब्दुल खालिद ने पार्टी की ओर से ऐलान किया कि लोक जनशक्ति पार्टी ने फैसला किया है कि वह पश्चिम बंगाल और असम में सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी. हालांकि, इसके लिए कहा गया की पार्टी को मजबूत करने के लिए ऐसा किया जा रहा है.

लेकिन सियासी गलियारों में ऐसी रिपोर्ट सामने आयी है कि, एनडीए दल की बैठक में बीजेपी ने एलजेपी को न्योता नहीं दिया. इससे नाराज पार्टी ने चुनाव लड़ने का फैसला किया है.

आपको बता दें, बिहार विधानसभा चुनाव में सीएम नीतीश कुमार की वजह से चिराग पासवान ने यहां एनडीए से अलग चुनाव लड़ने का फैसला किया था. हालांकि वह हमेशा कहते रहे की वह एनडीए का हिस्सा है और वह केंद्र सरकार का हिस्सा रहेंगे. लेकिन बिहार चुनाव के बाद अब बीजेपी ने शायद अपनी नाराजगी दिखाई है.

हालांकि, बीजेपी और एलजेपी दोनों की तरफ से अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है कि एलजेपी एनडीए गठबंधन में है या नहीं है. इसलिए ये सस्पेंस अभी बरकरार है.

रिपोर्ट नॉर्मल होने पर BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली को अस्पताल से मिली छुट्टी, फैंस हुए खुश