त्रिशूर (केरल), 23 मई (भाषा) केरल में छह अप्रैल को विधानसभा चुनाव के पहले कोडाकरा में हवाला रकम की लूटपाट के मामले में भाजपा के दो नेता रविवार को पूछताछ के लिए एसआईटी के सामने पेश नहीं हुए।

मतदान के तीन दिन पहले तीन अप्रैल को हुई घटना की जांच कर रही विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेता और भाजपा के प्रदेश संगठन सचिव एम गणेशन और पार्टी के कार्यालय सचिव गिरीश को पूछताछ के लिए पेश होने को कहा था।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि दोनों नेताओं ने उपस्थित नहीं हो पाने के बारे में अवगत कराया।

उन्होंने बताया, ‘‘हमने उनसे आज पूछताछ होने के लिए कहा। लेकिन उन्होंने कहा कि कुछ असुविधा के कारण वे नहीं आ पाएंगे। हम उन्हें फिर से नोटिस भेजेंगे। इस मामले में अब तक 19 लोग गिरफ्तार किए गए हैं।’’

जांच अधिकारियों ने इससे पूर्व भाजपा के त्रिशूर जिला महासचिव के आर हरि और सचिव जी काशीनाधन से पूछताछ की थी।

गणेशन और गिरीश को समन किए जाने से संकेत हैं कि प्रदेश में भाजपा-आरएसएस के कुछ और नेताओं से पूछताछ की जाएगी।

पुलिस के मुताबिक लूटपाट का यह मामला तीन अप्रैल को हुआ था।

शमजीद समसुधीन नामक व्यक्ति द्वारा सात अप्रैल को दर्ज करायी गयी शिकायत के मुताबिक जब वह कोडाकरा फ्लाइओवर पर थे तो एक अज्ञात गिरोह ने कार रूकवाया और वाहन में रखे 25 लाख रुपये लूट लिए।

ड्राइवर ने पुलिस को बताया था कि कोझिकोड में आरएसएस के कार्यकर्ता बताए जा रहे धर्मराजन ने उन्हें रकम दी थी।

शिकायत में कहा गया था कि 25 लाख रुपये की लूट हुई लेकिन जांच अधिकारियों को बाद में पता चला कि शायद 3.5 करोड़ रुपये थे और यह हवाला का धन था।

वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘‘हमने इस मामले में करीब एक करोड़ रुपये की रकम बरामद की है और समूची राशि का पता लगाने के लिए जांच की जा रही है।’’

आरोपियों ने कहा था कि यह रकम रियल इस्टेट कारोबार के लिए था लेकिन माकपा ने आरोप लगाया था कि यह काला धन था और घटना की विस्तृत जांच की मांग की।

हालांकि, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष के. सुरेंद्रन ने शनिवार को कहा कि मामले से उनकी पार्टी का कोई जुड़ाव नहीं है।