एक ओर पेट्रोल-डीजल के दाम में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. वहीं, LPG रसोई गैस सिलेंडर की कीमतों में फरवरी में तीसरी बार वृद्धि की गई है. सिलेंडर के दाम पूरे देश के सभी श्रेणियों के एलपीजी के दाम को 25 रुपये प्रति सिलेंडर और बढ़ गए हैं. इसमें सब्सिडी वाला सिलेंडर, उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों द्वारा इस्तेमाल में लाया जाने वाला सिलेंडर भी शामिल है.

कोरोना महामारी का कहर काबू में होने के बाद मांग में सुधार के बीच अंतरराष्ट्रीय बाजार में एलपीजी के दाम बढ़े हैं. यही वजह है कि इस महीने रसोई गैस सिलेंडर के दाम तीसरी बार बढ़ाए गए हैं.

यह भी पढ़ेंः पेट्रोल-डीजल की कीमतों को कम करने के लिए ममता सरकार ने किया बड़ा ऐलान

सार्वजनिक क्षेत्र की ईंधन कंपनियों की मूल्य अधिसूचना के अनुसार दिल्ली में अब 14.2 किलोग्राम के सिलेंडर का दाम 794 रुपये हो गया है. अभी तक इसके दाम 769 रुपये थे.

खास बात यह है कि सब्सिडी और बिना-सब्सिडी वाले यानी दोनों सिलेंडरों के दाम बढ़ाए गए हैं. देशभर में एलपीजी का दाम एक ही होता है. सरकार कुछ चुनिंदा ग्राहकों को इसपर सब्सिडी प्रदान करती है.

यह भी पढ़ेंः West Bengal: क्या ममता बनर्जी के राज में सिर्फ मुसलमानों का भला हो रहा है?

हालांकि, पिछले कुछ साल के दौरान महानगरों और बड़े शहरों में कीमतों में लगातार वृद्धि के बाद सब्सिडी समाप्त हो गई है. दिल्ली में उपभोक्ताओं को एलपीजी पर कोई सब्सिडी नहीं मिलती. सभी उपभोक्ताओं के लिए अब रसोई गैस सिलेंडर का दाम 794 रुपये हो गया है.

पेट्रोलियम कंपनी के एक अधिकारी ने बताया कि दूरदराज के क्षेत्रों के उपभोक्ताओं को रसोई गैस सिलेंडर पर कुछ सब्सिडी दी जाती है. ढुलाई भाड़े की भरपाई करने के लिए यह सब्सिडी दी जाती है.

यह भी पढ़ेंः पेट्रोल-डीजल के कीमतों पर बड़े ऐलान के बाद तेल की कीमतों के खिलाफ ममता बनर्जी की अनोखी रैली

इससे पहले चार फरवरी को एलपीजी के दाम 25 रुपये प्रति सिलेंडर और 15 फरवरी को 50 रुपये प्रति सिलेंडर बढ़ाए गए थे.

दिसंबर से रसोई गैस सिलेंडर लगातार महंगा हो रहा है. इस अवधि में इसकी कीमतों में 150 रुपये की बढ़ोतरी हुई है.

हालांकि, बृहस्पतिवार को लगातार दूसरे दिन पेट्रोल और डीजल कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ. दिल्ली में पेट्रोल 90.93 रुपये प्रति लीटर और डीजल 81.32 रुपये प्रति लीटर है.

यह भी पढ़ेंः Indian Railways ने दोगुना किराया बढ़ा कर दिया रेल यात्रियों को झटका, जानें रेलवे ने क्या दी सफाई