'असंभव को भगवान राम ने ही संभव कर दिया' राममंदिर शिलान्यास कार्यक्रम में शामिल हो रहे अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि खुद को धन्य महसूस कर रहे हैं कि वह इस मौके पर अयोध्या में होंगे. Opoyi से खास बातचीत में उन्होंने बताया कि साधु-संतों और श्रद्धालुओं का सपना अब हकीकत में बदलने जा रहा है.

यह भी पढ़ें: अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी का हुआ निधन, संदिग्ध हालत में मिला महंत का शव

इतने संघर्ष और तपस्या के बाद आप भी राममंदिर का निर्माण देखने जा रहे हैं. एक समय तो ये असंभव-सा ही लग रहा था? इस पर महंत नरेंद्र गिरि बोले कि हर रामभक्त इसे देख धन्य ही महसूस करेगा. मैं भी अद्भुत महसूस कर रहा हूं. हां, ये सच है असंभव को संभव भगवान राम ने ही किया.

राज ठाकरे समेत कई नेताओं का कहना है कि कोरोना के चलते राममंदिर शिलान्यास के कार्यक्रम को आगे बढ़ा देना चाहिए? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कुछ लोग अभी भी चाहते हैं कि मंदिर न बने.वे इसे सिर्फ एक मुद्दा बनाकर रखना चाहते हैं. वैसे भी कोरोना के चलते पहले ही इस कार्यक्रम को टाला गया. भूमिपूजन करके निर्माण का काम शुरू होना चाहिए. कोरोना से जुड़े नियमों का पूरा ख्याल रखा गया है. सीमित संख्या में लोग बुलाए गए हैं. फिर कोरोना का कुछ पता भी नहीं कि वह कब खत्म होगा. इस चक्कर में निर्माण का काम रोके रखना सही नहीं है.

यह भी पढ़ें: अखाड़ा परिषद के महंत नरेंद्र गिरि के निधन पर पीएम मोदी सहित इन लोगों ने दी श्रद्धांजलि

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का दावा है कि 5 अगस्त को मंदिर निर्माण के आरंभ का कोई मुहूर्त नहीं है. बिना मुहूर्त के मंदिर निर्माण मुसीबत में पड़ना है. क्या आप इससे सहमत हैं? उन्होंने जवाब दिया कि शंकराचार्य हम सभी के पूजनीय हैं. उन्होंने जो सवाल उठाया है वह सही है. यह मकान या दुकान के लिए सही मुहूर्त नहीं है, लेकिन राम के काम में मुहूर्त मायने नहीं रखता.

राममंदिर के लिए केंद्र और राज्य की बीजेपी सरकार ने सही दिशा में काम किया? बिल्कुल. बता दूं कि राममंदिर के लिए गोरखपीठ के महंत अवेद्यनाथ ने 1947-48 में आंदोलन चलाया था. इसके बाद अयोध्या के संत और विश्व हिन्दू परिषद आदि भी इससे जुड़े. उन्हीं के शिष्य मुख्यमंत्री (योगी आदित्यनाथ) हैं. फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तो खुद ही कर्मयोगी हैं. खुशी की बात है कि उनके करकमलों से मंदिर का शिलान्यास होगा.

नरेंद्र गिरि ने लोगों को भी इस दिन घी के दीये जलाने की अपील की. उन्होंने कहा कि 5 अगस्त क देशभर में दीये जलाकर दीवाली मनाएं.