महाराष्ट्र के नांदेड़ जिले में सोमवार को गुरुद्वारे के बाहर होला मोहल्ला के मौके पर  पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट और तोड़फोड़ के मामले में पुलिस ने 17 लोगों को हिरासत में लिया है. नांदेड़ पुलिस ने बताया कि कई अज्ञात लोगों के खिलाफ दंगा और हत्या के प्रयास के आरोपों के तहत एफआईआर दर्ज की गई है.  

ये भी पढ़ें: इरफान पठान कोरोना वायरस से संक्रमित होने वाले India Legends के चौथे क्रिकेटर

नांदेड़ में कोरोना वायरस महामारी के कारण होला मोहल्ला का जुलूस निकाले की इजाजत नहीं थी, इसके बावजूद तलवारों से लैस सिखों की भीड़ ने सोमवार को पुलिस कर्मियों पर हमला कर दिया था, जिसमें कम से कम चार पुलिसकर्मी जख्मी हो गए थे.

एक वायरल वीडियो में दिख रहा है कि तलवारें लिये लोगों की भीड़ गुरुद्वारे से बाहर निकली और पुलिस द्वारा लगाए गए बैरिकेड तोड़ दिए तथा पुलिसकर्मियों पर हमला किया. इस हिंसा में कई वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गए.

ये भी पढ़ें: फारूक अब्दुल्ला कोरोना पॉजिटिव पाए गए, 2 मार्च को ली थी वैक्सीन की पहली डोज

नांदेड़ रेंज के पुलिस उपमहानिरीक्षक (डीआईजी) निसार तंबोली ने बताया, "महामारी के चलते होला मोहल्ला का जुलूस निकालने की इजाजत नहीं दी गई. गुरुद्वारा कमेटी को सूचित कर दिया गया था और उन्होंने हमें आश्वस्त किया था कि वे हमारे निर्देशों का पालन करेंगे और कार्यक्रम गुरुद्वारे परिसर के अंदर करेंगे." उन्होंने बताया, "हालांकि जब निशान साहिब को शाम 4 बजे द्वार पर लाया गया तो कई लोगों ने बहस शुरू कर दी और 300 से अधिक युवा दरवाजे से बाहर आ गए, बैरिकेड तोड़ दिए और पुलिसकर्मी पर हमला करना शुरू कर दिया."

ये भी पढ़ें: देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के नए मामलों में आई गिरावट, जानें ताजा आंकड़े