पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस (TMC) की अध्यक्ष ममता बनर्जी 21 जुलाई को शहीद दिवस मना रही है. पार्टी के गठन के बाद से हर साल 21 जुलाई को शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है. इस मौके पर केंद्र सरकार और बीजेपी पर खूब हमला बोला. उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी देश की संस्थाओं को नष्ट कर रही है. अब हमें मोदी सरकार को प्लास्टर करने की जरूरत हैं. अब जब तक बीजेपी को बाहर नहीं करते तब तक खेला होगा.

ममता ने कहा, "मैं नहीं जानती 2024 में क्या होगा. लेकिन इसके लिए अभी से तैयारियाँ करनी होंगी. हम जितना समय नष्ट करेंगे, उतनी ही देरी होगी. बीजेपी के ख़िलाफ़ तमाम दलों को मिल कर एक मोर्चा बनाना होगा."

यह भी पढ़ेंः सरकार का हाथ साफ तो कोर्ट में एफिडेविट दें हमने पेगासस नहीं खरीदीः कमलनाथ

उन्होंने आगे कहा, "बीजेपी को देश से खदेड़े बिना लोकतंत्र को बचाना मुश्किल होगा. जब तक ऐसा नहीं होता हर राज्य में खेला होगा. हमने बंगाल में एक बार खेला दिखा दिया है. अब फिर भगवा पार्टी को खेला दिखाएंगे." 16 अगस्त को खेला दिवस मनाएंगे. 

पेगासस मामले का ज़िक्र करते हुए उन्होंने इस अब तक का सबसे बड़ा स्कैंडल बताया. उन्होंने अपना फ़ोन दिखाते हुए कहा- मैंने अपना फ़ोन प्लास्टर कर दिया है. इसी तरह दिल्ली की सत्ता से बीजेपी को भी प्लास्टर लगा कर बाहर करना होगा.

यह भी पढ़ेंः मोहन भागवत बोले- 1930 से प्लानिंग के तहत मुस्लमानों की संख्या बढ़ाने के प्रयास हुए

ममता बनर्जी ने कहा, अब न्यायपालिका ही लोकतंत्र को बचा सकती है. पेगासस के ज़रिए तमाम नेताओं, जजों और पत्रकारों के फोन टैप करने का ज़िक्र करते हुए टीएमसी प्रमुख ने सुप्रीम कोर्ट के जजों से इस मामले पर ख़ुद संज्ञान लेते हुए मामला दर्ज करने या फिर इसकी जाँच के लिए एसआईटी गठित करने की अपील की.

ये भी पढ़ेंः आपका फोन Pegasus स्पाईवेयर का शिकार तो नहीं? यहां जानें कैसे पता चलेगा

उनका कहना था, "फ़ोन टैपिंग की बात मुझे पहले से मालूम थी. इसी डर से मैं चाह कर भी पवार, चिदंबरम, केजरीवाल या नवीन पटनायक जैसे नेताओं से फ़ोन पर बात नहीं कर पाती थी. बीजेपी ने चुनाव के दौरान अभिषेक और पीके के साथ हुई मेरी बैठक की बातें भी रिकॉर्ड कर ली थी. बीजेपी को अपने मंत्रियों पर भी भरोसा नहीं है."