नयी दिल्ली, 28 अप्रैल (भाषा) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल से बात कर भूंकप से हुए जान और माल के नुकसान का जायजा लिया तथा पूर्वोत्तर के इस राज्य को हरसंभव केंद्रीय मदद का आश्वासन भी दिया।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सहित अन्य नेताओं ने भी सोनोवाल से बात की राज्य को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया।

ज्ञात हो कि असम में बुधवार सुबह 6.4 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप की तीव्रता को देखते हुए अधिकारियों ने बड़े पैमाने पर नुकसान का अंदेशा जताया है।

मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘असम के विभिन्न हिस्सों में आए भूकंप के सिलसिले में मुख्यमत्री सर्बानंद सोनोवाल से बात की। हरसंभव केंद्रीय मदद का उन्हें आश्वासन दिया। असम के लोगों के कुशल-क्षेम की कामना करता हूं।’’

बाद में सोनोवाल ने ट्वीट किया, ‘‘ढेकियाजुली में आज सुबह भूकंप के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी स्थिति के बारे में लगातार जानकारी ले रहे हैं। पिछले कुछ घंटों में दूसरी बार प्रधानमंत्री का फोन आया। ताजा स्थिति से मैंने उन्हें अवगत करा दिया है।’’

मुख्यमंत्री ने सोनितपुर जिले स्थित भूकंप के केंद्र स्थल का भी दौरा किया।

शाह ने भी सोनोवाल से बात की और कहा कि केंद्र सरकार संकट की इस घड़ी में राज्य की जनता के साथ खड़ी है।

शाह ने ट्वीट कर कहा, ‘‘राज्य के विभिन्न हिस्सों में आए भूकंप के बाद की स्थिति का जायजा लेने के लिए मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल से बात की। केंद्र सरकार असम के भाइयों और बहनों के साथ मजबूती से खड़ी है। सभी की सुरक्षा और कुशल-क्षेम की कामना करता हूं।’’

सीतारमण ने भी असम को हरसंभव केंद्रीय मदद का आश्वासन दिया।

सोनोवाल ने ट्वीट किया, ‘‘केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने फोन कर भूकंप से पैदा हुई स्थिति का जायजा लिया और हरसंभव मदद का आश्वासन दिया। मैं वित्त मंत्री जी को बहुत धन्यवाद देता हूं।’’

पूर्वोत्तर राज्यों के विकास मामलों के मंत्री जितेंद्र सिंह ने भी असम को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया।

सिंह ने ट्वीट कर कहा, ‘‘असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल से अभी बात की। राज्य का एक बड़ा हिस्सा इससे प्रभावित हुआ था लेकिन किस्मत से कोई जान नहीं गई है। राज्य प्रशासन निकटता से निगरानी कर रहा है और केंद्र लगातार संपर्क में है।’’

भाजपा महासचिव( संगठन) बी एल संतोष ने भी सोनोवाल से बात कर स्थिति का जायजा लिया।

असम और पूर्वोत्तर के कुछ अन्य राज्यों में बुधवार को एक के बाद एक कई बार भूकंप के झटके महसूस किए गए जिससे इमारतों को काफी नुकसान पहुंचा और लोग घबरा कर अपने घरों से बाहर निकल आए।

अधिकारियों ने बताया कि तीन लोग घायल हो गए लेकिन किसी की मौत की सूचना नहीं मिली है। असम के सोनितपुर जिला के मुख्यालय तेजपुर में सुबह सात बजकर 51 मिनट पर 6.4 तीव्रता का पहला भूकंप आया।

भूकंप के झटके पूरे पूर्वोत्तर क्षेत्र और पश्चिम बंगाल, भूटान और बांग्लादेश के कुछ हिस्सों में भी दर्ज किए गए।

क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र (आरएमसी) के उपनिदेशक संजय ओ’नील शॉ ने बताया कि इसके बाद सुबह आठ बजकर तीन मिनट, आठ बजकर 13 मिनट, आठ बजकर 25 मिनट, आठ बजकर 44 मिनट पर 4.7, 4 और दो बार 3.6 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए।

राज्य के नगांव जिले में दस बजकर पांच मिनट पर 3.2 तीव्रता का भूकंप का झटका महसूस किया गया। इसके कुछ देर बाद 10 बजकर 39 मिनट पर तेजपुर में 3.4 तीव्रता के भूकंप का एक और झटका महसूस किया गया।

दोपहर 12 बजकर 32 मिनट पर मोरीगांव में 2.9 तीव्रता का भूकंप आया।