मूडीज (Moody's) ने गुरुवार को अगले वित्त वर्ष (2021-22) के लिये भारत की आर्थिक वृद्धि का अनुमान पहले के 10.8 प्रतिशत से बढ़ाकर 13.7 प्रतिशत कर दिया. आर्थिक गतिविधियों के सामान्य होने और कोविड- 19 का टीका बाजार में आने के बाद बाजार में बढ़ते विश्वास को देखते हुये यह नया अनुमान लगाया गया है.

यह भी पढ़ेंः पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर केंद्र सरकार जल्द कर सकती है बड़ा ऐलान, विकल्प पर कर रही विचार

अमेरिका की इस रेटिंग एजेंसी ने इसके साथ ही चालू वित्त वर्ष के दौरान भारतीय अर्थव्यवस्था में आने वाली गिरावट के अनुमान को भी अपने पहले के 10.6 प्रतिशत में सुधार लाते हुये इसे 7 प्रतिशत कर दिया. यानी अब चालू वित्त वर्ष के दौरान भारतीय अर्थव्यवस्था की गिरावट सात प्रतिशत रहने का अनुमान है.

यह भी पढ़ेंः लोन लेना हो तो न बदलें जल्दी-जल्दी नौकरी, पर्सनल लोन के लिए 5 बातों का रखें ध्यान

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस के सहायक प्रबंध निदेशक (सावरेन जोखिम) जेने फेंग ने कहा, ‘‘हमारा वर्तमान अनुमान यह है कि मौजूदा मार्च 2021 को समाप्त होने वाले चालू वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था में सात प्रतिशत की गिरावट रहेगी ... वहीं हम गतिविधियों के सामान्य होने और आधारभूत प्रभाव को देखते हुये अगले वित्त वर्ष में 13.7 प्रतिशत वृद्धि की उम्मीद कर रहे हैं.’’

यह भी पढ़ेंः 1 मार्च से बुजुर्गों को लगाया जाएगा मुफ्त कोरोना वायरस टीका, प्राइवेट अस्पताल में देना होगा शुल्क

वहीं, इक्रा की प्रधान अर्थशास्त्री आदिति नायर ने कहा कि वह चालू वित्त वर्ष की अक्टूबर से दिसंबर 2020 की तीसरी तिमाही में 0.3 प्रतिशत वृद्धि की उम्मीद करतीं हैं. वहीं, इक्रा का मानना है कि भारतीय अर्थव्यवस्था चालू वित्त वर्ष में सात प्रतिशत नीचे रहेगी जबकि अगले वित्त वर्ष में इसमें 10.5 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की जायेगी.