उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के नये केस अब तेजी से सामने आ रहे हैं. रविवार की रात 24 घंटों के नये मामले 4 हजार से ज्यादा दर्ज किए गए, वहीं 31 लोगों की संक्रमण से मौत हो गई. सीएम योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को सतर्क रहने के लिए कहा है. कोविड-19 रोगियों और उनके संपर्क में लगातार रहने का आदेश जारी किया है.

यह भी पढ़ेंः मात्र 9 रुपये में पाएं LPG गैस सिलेंडर, फटाफट उठाएं मौके का फायदा, जानें कैसे?

मुख्‍य सचिव स्वास्थ्य राजेंद्र कुमार तिवारी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों, पुलिस अधीक्षक, मुख्‍य चिकित्‍साधिकारी सहित दूसरे अधिकारियों को आदेश जारी किए गए हैं जिसमें जिला निगरानी अधिकारी (डीएसओ) को प्रतिदिन कोविड-19 के मामलों की जानकारी जिला प्रतिरक्षण अधिकारी को उपलब्‍ध कराने की सभी जिम्मेदारी मिली है.

सरकार ने जारी की ये नई गाइडलाइंस

सरकार द्वारा जारी आदेश में ये बात तय की गई है कि हर कोविड-19 मामले को केंद्र मानकर 25 मीटर परिधि को और एक से ज्यादा मामलों के लिए 50 मीटर की परिधि निरुद्ध जोन बनेगा. प्रदेश के वर्तमान औसत जनसंख्या के घनत्व के अनुसार, 25 मीटर परिधि में लगभग 20 घर और 50 मीटर की परिधि में करीब 60 घर आएंगे.

यह भी पढ़ेंः महाराष्ट्र में मिनी लॉकडाउन में क्या रहेंगे बंद, उल्लंघन पर कितना होगा जुर्माना

सभी कंटेनमेंट जोन में बने घरों की निगरानी के लिए एक टीम बनेगी, जिसमें स्वास्थ्य विभाग, स्थानीय निकाय (शहरी क्षेत्र) या ग्राम विकास व पंचायती राज (ग्रामीण क्षेत्र) और स्‍थानीय प्रशासन में से एक-एक सदस्य होंगे. इसमें कुल तीन सदस्यों की टीम होगी जो निगरानी रखेगी. शासन के आदेश के अनुसार, हर पांच टीमों पर एक सुपरवाइजर तैनात किया जाएगा जो अपने अधीन पांचों टीमों से सूचनाओं का संकलन कर उसे डीएसओ को उपलब्‍ध कराएगा.

यह भी पढ़ें- कमल हासन ने कहा, 'राजनीतिक करियर के लिए छोड़ दूंगा सिनेमा'