भोपाल, 22 मई (भाषा) मध्य प्रदेश में इन्दौर जिले के छावनी क्षेत्र महू में कथित तौर पर संदिग्ध गतिविधियों में शामिल होने के संदेह में दो महिलाओं सहित तीन लोगों को हिरासत में लिया गया है। खुफिया एजेंसियों तथा पुलिस द्वारा मामले में विस्तृत जांच की जा रही है।

इन्दौर जोन के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) एचसी मिश्रा ने कहा कि तीनों को फिलहाल गिरफ्तार नहीं किया गया है। मामले में पूछताछ और जांच की जा रही है।

तीनों पाकिस्तान में अपने ‘‘संपर्क’’ के साथ संवाद कर रहे थे, इस सवाल पर आईजी ने कहा, ‘‘ गुप्त सूचना के आधार पर, दो महिलाओं और एक पुरुष को हिरासत में लिया गया है। अब तक की पूछताछ से पता चला है कि वे संदिग्ध गतिविधियों में शामिल थे। तीनों से पूछताछ में पुलिस के अलावा अन्य एजेंसियां भी शामिल हैं। इनसे बरामद सभी सामग्री सहित अन्य तथ्यों की गहनता से जांच की जा रही है।’’

पुलिस ने बताया कि इन्दौर से लगभग 35 किलोमीटर दूर महू के गवली पलासिया गांव स्थित लक्ष्मी विहार कॉलोनी की रहने वाली दो महिलाओं और एक पुरुष को हिरासत में लिया गया है।

सूत्रों के अनुसार, सेना के खुफिया कर्मी पिछले एक माह से तीनों की निगरानी कर रहे थे और बुधवार शाम को तीनों को महू के माल रोड के पास स्थित सेना के अस्पताल और सेना के अन्य भवनों की तस्वीरें लेते हुए पाया गया।

उन्होंने बताया कि सेना एवं पुलिस के अधिकारियों को इस मामले में सूचित किया गया तथा इनके मोबाइल फोन में संवेदनशील जानकारी मिलने के बाद तीनों को हिरासत में लिया गया और तीनों को इनके ठिकाने ले जाकर पूछताछ की गई।

सूत्रों के अनुसार, इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी), आतंकवाद निरोधक दस्ता (एटीएस) और सेना के खुफिया दस्ते के कर्मी तीनों से पूछताछ कर रहे हैं तथा उन्हें घर से बाहर जाने की अनुमति नहीं है।

पुलिस अधिकारी अजीत सिंह ने बताया, ‘‘ महू पुलिस के एक उप निरीक्षक, एक सहायक उप निरीक्षक और दो आरक्षकों को संदिग्धों के घर पर तैनात किया गया है। हिरासत में रखे गये तीनों को किसी से मिलने की अनुमति नहीं है।’’

उन्होंने बताया कि आरोपी महिला के पिता सेना की मेडिकल कोर में सिपाही के पद पर कार्यरत थे। अपनी सेवानिवृत्ति के बाद उन्होंने एक बैंक में सुरक्षा गार्ड के तौर पर काम किया और पांच साल पहले उनकी मौत हो गई।

परिवार महू के पास बिचौली गांव का रहने वाला है और उन्होंने करीब दस साल पहले इस मकान को बनवाया था। संदिग्ध महिलाओं में से एक ने विद्युत मंडल में अस्थाई कर्मचारी के तौर पर भी काम किया लेकिन छह माह काम करने के बाद दो साल पहले नौकरी छोड़ दी।

सिंह ने बताया कि कॉलोनी के कुछ निवासियों ने मीडिया को बताया कि इस परिवार के लोगों की गतिविधियां संदिग्ध थी क्योंकि इनके घर से निकलने और वापस आने का कोई समय निश्चित नहीं था। इसके अलावा वे अपने आसपास के रहवासियों के साथ कोई बात नहीं करती थीं।

भाषा सं दिमो शफीक