महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट से पहली मौत का मामला सामने आया है, जबकि राज्य में डेल्टा प्लस से सम्बंधित तीन मौते दर्ज की गईं हैं. मुंबई के अलावा एक मामला रत्नागिरी का है और एक रायगढ़ का. 

मुंबई वाले मामलो को लेकर बीएमसी ने बताया, मृतक महिला 63 साल की थी और उसने वैक्सीन की दोनों डोज लगवाई थीं. हैरान करने वाली बात ये है कि वह कहीं ट्रेवल पर भी नहीं गई थी. मिली जानकारी के अनुसार, महिला के फेफड़ों में वायरस था. वह कोरोना से संक्रमित होने के पहले से बीमार थी. बताया जा रहा है कि महिला 21 जुलाई को संक्रमित हुई थी और 27 जुलाई को उसकी मौत हो गई. बीएमसी को हाल ही में महिला की जीनोम सीक्वेंस रिपोर्ट मिली है, जिसमें महिला को डेल्टा प्लस वेरिएंट की पुष्टि हुई है.

उनकी मृत्यु के बाद कम से कम दो करीबी संपर्क भी डेल्टा प्लस वेरिएंट से संक्रमित पाए गए, जिसे अत्यधिक संक्रामक माना जाता है. 

यह भी पढ़ें: Delta Variant: डेल्टा वेरिएंट के लक्षण मूल COVID लक्षणों से कैसे भिन्न हैं?

राज्य में इस वेरिएंट के चलते यह तीसरी मौत है क्योंकि इससे पहले 13 जून को रत्नागिरी जिले की एक 80 वर्षीय महिला की कोरोना से मौत हो गई थी. इस महिला ने COVID-19 वैक्सीन की एक भी खुराक नहीं ली थी.

यह भी पढ़ें: फफड़ों के लिए खतरनाक है कोरोना का नया डेल्टा प्लस वेरिएंट, जानें कैसे करता है हमला

वहीं, डेल्टा प्लस वेरिएंट से राज्य में मौत का तीसरा मामला रायगढ़ जिले से आया है. रायगढ़ की कलेक्टर निधि चौधरी ने 13 अगस्त को बताया कि जिले के नागोथाने इलाके के 69 वर्षीय पुरुष ने कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट से जान गंवाई. 

दो दिन पहले, महाराष्ट्र सरकार ने कहा था कि अकेले बुधवार को राज्य में डेल्टा प्लस वेरिएंटके 20 नए मामलों का पता चला था और उनमें से सात मुंबई में थे. इसके साथ ही राज्य में इस प्रकार से संक्रमित पाए गए मरीजों की संख्या बढ़कर 65 हो गई है. 

यह भी पढ़ेंः प्रेगनेंसी के बाद वजन कम करने के लिए अपनाएं ये 5 नियम

यह भी पढ़ें: Health Tips: मानसून की बीमारियों और कोरोना के लक्षणों में ऐसे करें अंतर

यह भी पढ़ें: Video: उत्तराखंड के चमोली में लैंडस्लाइड में भरभराकर गिरा पूरा पहाड़, देखें भयावह मंजर