भारतीय इतिहास अनुसंधान परिषद (ICHR) ने 'आजादी के अमृत महोत्सव' समारोह की तस्वीर से देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की तस्वीर को जगह नहीं दिया है. इसके बाद अब बवाल खड़ा हो गया है. कांग्रेस ने इस हरकत को तुच्छ बताया है. वहीं, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने समारोह से देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की तस्वीर हटाये जाने पर कटाक्ष करते हुए कहा, 'देश के प्यारे पंडित नेहरू' को लोगों के दिल से कैसे निकाला जा सकेगा.

राहुल गांधी ने फेसबुक पर नेहरू के जीवन से जुड़ी कई तस्वीरें साझा करते हुए कहा, 'देश के प्यारे पंडित नेहरू को लोगों के दिल से कैसे निकालोगे?'

यह भी पढ़ेंः National Sports Day के मौके पर भाविना पटेल के मेडल से देश में जश्न

इस मामले में कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा कि आईसीएचआर ने पंडित नेहरू की तस्वीर हटाकर खुद को कलंकित किया है. शशि थरूर ने ट्वीट किया, "ये सिर्फ निंदनीय नहीं, बल्कि अनैतिहासिक यानी के इतिहास के विरुद्ध भी है कि आजादी का जश्न भारतीय आजादी की महत्वपूर्ण आवाज रहे जवाहरलाल नेहरू को हटाकर मनाया जाए. एक बार फिर, आईसीएचआर ने खुद का नाम खराब किया है. ये एक आदत बनती जा रही है!"

वहीं, कांग्रेस के अलावा कई अन्य राजनीतिक पार्टियों के नेताओं ने भी समारोह से देश के प्रथम प्रधानमंत्री की तस्वीर हटाये जाने को लेकर कड़ी आपत्ति जताई है.

यह भी पढ़ेंः आज है राष्ट्रीय खेल दिवस, जानें 29 अगस्त को ही क्यों मनाया जाता है?

कांग्रेस पार्टी के कई नेताओं ने आईसीएचआर की वेबसाइट पर 'आजादी के अमृत महोत्सव' से जुड़ी तस्वीरों का स्क्रीनशॉट अपने अपने ट्विटर हैंडल पर साझा किया है. इस तस्वीर में महात्मा गांधी, सरदर वल्लभभाई पटेल, नेताजी सुभाषचंद्र बोस, राजेंद्र प्रसाद, भगत सिंह, मदनमोहन मालवीय और वीर सावरकर के चित्र हैं, लेकिन नेहरू की तस्वीर गायब है.

इस मामले को लेकर आईसीएचआर की ओर से फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. बता दें, 'आजादी का अमृत महोत्सव' देश की आजादी के 75 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में मनाया जा रहा है.

यह भी पढ़ेंः पद्म पुरस्कार के लिए दिल्ली सरकार ने केंद्र को भेजे इन 3 डॉक्टर्स के नाम, देखें लिस्ट