प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए राष्ट्रीय शिक्षा नीति- 2020 (NEP-2020) के तहत “21 वीं सदी में स्कूली शिक्षा” पर एक सम्मेलन में हिस्सा लिया. सम्मलेन को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि बच्चा जिस भी भाषा को आसानी से सीखे, उसी भाषा में पढ़ाई होनी चाहिए. इस दौरान शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल भी उपस्थित रहे.

NEP पिछले चार-पांच वर्षों की कड़ी मेहनत: पीएम

पीएम मोदी ने सम्मलेन को संबोधित करते हुए कहा, "नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति नए भारत की, नई उम्मीदों की, नई आवश्यकताओं की पूर्ति का माध्यम है. इसके पीछे पिछले चार-पांच वर्षों की कड़ी मेहनत है, हर क्षेत्र, हर विधा, हर भाषा के लोगों ने इस पर दिन रात काम किया है. लेकिन ये काम अभी पूरा नहीं हुआ है." 

देश भर से शिक्षकों के सुझाव मांगे: पीएम मोदी 

पीएम मोदी ने आगे कहा, "कुछ दिन पहले शिक्षा मंत्रालय ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करने के बारे में देश भर के शिक्षकों से 'MyGov' पर उनके सुझाव मांगे थे. एक सप्ताह के भीतर ही 15 लाख से ज्यादा सुझाव मिले हैं. ये सुझाव राष्ट्रीय शिक्षा नीति को और ज्यादा प्रभावी तरीके से लागू करने में मदद करेंगे."

पीएम मोदी ने स्टूडेंट्स की जिज्ञासा को बढ़ाने के लिए सुझाव देते हुए कहा, "हमारे देश भर में हर क्षेत्र की अपनी कुछ न कुछ खूबी है, कोई न कोई पारंपरिक कला, कारीगरी, प्रोडक्ट्स हर जगह के मशहूर हैं. स्टूडेंट्स उन करघों, हथकरघों में दौरा करें, देखें आखिर ये कपड़े बनते कैसे हैं? इससे विद्यार्थियों की जिज्ञासा बढ़ेगी और जानकारी भी."

भाषा को लेकर बोले पीएम मोदी 

पीएम मोदी ने स्किल्स की भी बात की. उन्होंने कहा, "हमें अपने छात्र को 21वीं सदी की स्किल्स के साथ आगे बढ़ाना है. 21वीं सदी की स्किल्स ये होंगी- क्रिटिकल थिंकिंग, क्रिएटिविटी, कोलैबोरेशन, क्यूरोसिटी और कम्युनिकेशन." पीएम ने आगे कहा, "हमें एक वैज्ञानिक बात समझने की जरूरत है कि भाषा शिक्षा का माध्यम है, भाषा ही सारी शिक्षा नहीं है. जिस भी भाषा में बच्चा आसानी से सीख सके, वही भाषा पढ़ाई की भाषा होनी चाहिए."

पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करने के अभियान में प्राचार्य, शिक्षक पूरे उत्साह से हिस्सा ले रहे हैं. उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले शिक्षा मंत्रालय ने ‘माएगोव’ पोर्टल पर राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करने के बारे में देशभर के शिक्षकों से उनके सुझाव मांगे थे जिसमें एक सप्ताह के भीतर ही 15 लाख से ज्यादा सुझाव मिले हैं.

उन्होंने कहा कि अब तक हमारे देश में अंक तथा अंकपत्र आधारित शिक्षा व्यवस्था हावी थी, लेकिन अब हमें शिक्षा में आसान और नए-नए तौर-तरीकों को बढ़ाना होगा. प्रधानमंत्री ने कहा कि बच्चों के लिए नए दौर के अध्ययन का मूलमंत्र होना चाहिए- भागीदारी, खोज, अनुभव, अभिव्यक्ति तथा उत्कृष्टता.