मुंबई, 28 अप्रैल (भाषा) कर्ज और ब्याज की अपनी नीति की अगली समीक्षा से पहले मुद्रास्फीति की आगे की दिशा पर आम लोगों की सोच और उपभोक्ताओं के आत्मविश्वास का जायजा लेने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ने अपने नियमित दो सर्वे के नए दौर शुरू करने की बुधवार को घोषणा की।

बैंक ने कहा है कि कोविड-19 के प्रकोप के कारण सर्वे के मई 2021 चक्र को फोन के माध्यम से किया जाएगा।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मौद्रिक नीति समिति की द्वैमासिक समीक्षा बैठक 2-4 जून को होने वाली है। मुद्रास्फीति को लेकर लोगों की प्रत्याशा और उपभोक्ताओं के आत्मविश्वास के बारे में सूचनाएं रिजर्व बैंक के लिए नीति निर्धारण की दृष्टि से बड़े महत्व की होती हैं।

आरबीआई ने कहा कि मुद्रास्फीति की प्रत्याशा पर परिवारों के बीच सर्वेक्षण (आईईएसएच) देश भर में 18 शहरों में कराया जाएगा। इस सर्वे का मई 2021 का चक्र होगा। इसमें 6000 परिवारों से महंगाई की दिशा और मुद्रास्फीति घटने-बढ़ने की संभावना के बारे में उनसे वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे जाएंगे।

इसी तरह उपभोक्ता आत्मविश्वास सर्वे (सीसीएस) में 13 शहरों के कुल करीब 5,400 परिवारों से संपर्क किया जाएगा।

भाषा मनोहर रमण

रमण