गुजरात में विजय रुपाणी ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है और अब नए सीएम उम्मीदवार का चुनाव बीजेपी के विधायक दल की बैठक में होना है. विधायक दल की बैठक में गुजरात के नए सीएम के नाम की घोषणा की जाएगी. हालांकि, इससे पहले उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल को सीएम पद का बड़ा दावेदार माना जा रहा है. हालांकि, नितिन पटेल ने खुद के सीएम बनने को लेकर कहा है कि मीडिया में मेरे नाम की अफवाह उड़ाई जा रही है. फैसला आलाकमान ही करेंगे.

उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा, एक सीएम ऐसा होना चाहिए जो लोकप्रिय हो, अनुभवी हो और सभी को एक साथ ले जाए। मीडिया में अफवाहें हैं कि मुझे सीएम बनाया जाएगा, लेकिन सच्चाई यह है कि बीजेपी आलाकमान तय करेगा कि मुख्यमंत्री कौन होगा.

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड में चुनाव से पहले कांग्रेस को झटका, पुरोला MLA राजकुमार ने की बीजेपी में वापसी

वहीं, उन्होंने विजय रुपाणी के इस्तीफे को लेकर कहा कि, विजय रूपाणी ने स्वेच्छा से सीएम पद से इस्तीफा दिया है. उन्होंने किसी दबाव में फैसला नहीं लिया. पार्टी आलाकमान की ओर से भेजे गए ऑब्जर्वर बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं की राय ले रहे हैं कि किसे सीएम बनाया जाए. आज की बैठक में लिया जाएगा फैसला.

यह भी पढ़ेःं राहुल गांधी का Sunday Thoughts, 'नौकरी ही नहीं है तो क्या रविवार, क्या सोमवार!'

आपको बता दें, विजय रुपाणी के इस्तीफे की असल वजह उनकी लोकप्रियता ही है. विजय रुपाणी अपने पांच साल के कार्यकाल में शायद बीजेपी के सामने ये सिद्ध करने में चूक गए की वह एक लोकप्रिय चेहरा है.

बता दें, विजय रुपाणी साल 2016 में आनंदीबेन पटेल की जगह पर गुजारत के सीएम नियुक्त किए गए थे. वहीं, 2017 में विजय रुपाणी के नेतृत्व में चुनाव लड़ा गया था. लेकिन इस चुनाव को जीतने के लिए बीजेपी को काफी मशक्कत करनी पड़ी थी. इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खुद चुनाव जीतने के लिए मोर्चा संभालना पड़ा था.

यह भी पढ़ेंः गुजरात में बीजेपी को चाहिए लाइम लाइट वाला सीएम चेहरा? विजय रुपाणी की यही थी सियासी कमजोरी

विजय रुपाणी 5 साल तक सीएम पद पर रहने के बावजूद राजनीतिक तौर पर अपना सियासी प्रभाव नहीं जमा सके. वह खामोशी से अपना काम करना पसंद करते हैं. इन पांच सालों में वह किसी भी बड़े विवाद में नहीं रहे. लाइम लाइट से दूर रहकर काम करनेवाले विजय रुपाणी के लिए शायद यहीं सियासी कमजोरी साबित हुई है.