पुणे, 26 मई (भाषा) भारतीय सेना ने बुधवार को कहा कि वह भ्रष्ट आचरण के खिलाफ ‘कतई बर्दाश्त नहीं करने’ के संकल्प को दोहराती है और प्रश्नपत्र लीक मामले में जारी संयुक्त जांच में पूरा प्रक्रियागत सहयोग कर रही है।

सेना की भर्ती से संबंधित प्रश्नपत्र लीक होने के मामले की जांच कर रही पुणे पुलिस ने अब तक नौ लोगों को गिरफ्तार किया है जिनमें दो मेजर और लेफ्टिनेंट कर्नल रैंक का एक अधिकारी भी शामिल है।

यह परीक्षा इस साल मार्च में होनी थी।

रक्षा जनसंपर्क अधिकारी ने एक विज्ञप्ति में कहा, ‘‘भारतीय सेना भ्रष्ट आचरण के खिलाफ ‘कतई बर्दाश्त नहीं करने’ के संकल्प को दोहराती है और प्रश्नपत्र लीक मामले में जारी संयुक्त जांच में पूरा प्रक्रियागत सहयोग कर रही है।’’

भाषा

नेत्रपाल वैभव

वैभव