लखनऊ/मऊ, 28 अप्रैल (भाषा) बिहार और उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल में आतंक का कथित पर्याय बना एक लाख रुपये का इनामी कुख्यात बदमाश लालू यादव बुधवार तड़के मऊ जिले में पुलिस से मुठभेड़ में मारा गया।

अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने लखनऊ में बताया कि सूचना मिलने पर पुलिस ने एक लाख रुपये के इनामी बदमाश लालू यादव का तड़के करीब साढ़े तीन बजे मऊ जिले के सराय लखंसी क्षेत्र स्थित भंवरेपुर के पास घेराव किया था।

उन्होंने बताया कि इसके बाद बदमाशों ने पुलिस पर गोलियां चलाई, जवाबी कार्रवाई में यादव घायल हो गया। उसे अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

मऊ के पुलिस अधीक्षक सुशील घुले ने बताया कि मुठभेड़ के दौरान अंधेरे का फायदा उठाकर यादव का एक साथी विनोद फरार हो गया।

उन्होंने बताया कि दुर्दांत अपराधी लालू यादव जिले के कोपागंज थाना क्षेत्र के दोड़ापुर गांव का रहने वाला था।

अपर पुलिस महानिदेशक ने बताया कि मुठभेड़ के दौरान चिरैयाकोट थाना अध्यक्ष अविनाश कुमार सिंह, इंस्पेक्टर राजेश प्रसाद यादव, उपनिरीक्षक अमित मिश्रा और कॉन्स्टेबल विवेक सिंह को गोली मारी गई लेकिन बुलेट प्रूफ जैकेट पहने होने की वजह से वे सभी बच गए।

कुमार ने बताया कि पुलिस ने मौके से एक पिस्टल कुछ कारतूस और मोटरसाइकिल बरामद की है।

गौरतलब है कि लालू यादव का बिहार और उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल में खासा आतंक था। उस पर मऊ जिले में आरटीआई कार्यकर्ता बाल गोविंद सिंह की हत्या और जौनपुर में दो करोड़ रुपए की डकैती तथा एक सुरक्षाकर्मी की हत्या कर 25 लाख रुपए लूटने समेत कुल 82 मुकदमे दर्ज थे।