ऐसा हमेशा होता है कि जब आप अपने जॉब या किसी अन्य कारणों से दूसरे राज्य में शिफ्ट होते हैं तो आपको अपनी गाड़ी का रजिस्ट्रेशन भी ट्रांसफर कराना होता है. लेकिन ऐसे लोगों के लिए अब अच्छी खबर है. अब उन्हें अपनी गाड़ी का रजिस्ट्रेशन ट्रांसफर कराने की जरूरत नहीं होगी. सरकार अब ऐसे नियम ला रही है जिससे लोगों को अलग राज्य में रजिस्ट्रेशन ट्रांसफर कराने की जरूरत नहीं होगी.

दरअसल, सड़क परिवहन मंत्रालय ने नई रजिस्ट्रेशन भारत सीरीज यानी BH सीरीज की शुरुआत कर दी है. इसकी मदद से राज्यों के बीच पैसेंजर व्हीकल ट्रांसफर की झंझट खत्म हो जाएगी. इस सीरीज के तहत गाड़ी मालिकों को एक स्टेट से दूसरे स्टेट में शिफ्ट होने पर दोबारा से रजिस्ट्रेशन कराना नहीं पड़ेगा. ये BH सीरीज पूरे देश में मान्य होगी.

यह भी पढ़ेंः ट्रेन टिकट कैंसिल करने पर रिफंड के लिए नहीं करना होगा इंतजार, IRCTC की खास सर्विस

क्या कहा है मंत्रालय ने

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने कहा कि गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन के लिए आईटी बेस्ड सॉल्यूशन इस दिशा में एक बेहतर कोशिश है. एक स्टेट से दूसरे स्टेट में शिफ्ट होने पर गाड़ियों का दोबारा से रजिस्ट्रेशन कराने की जरूरत होती थी, जिससे गाड़ी मालिकों को बहुत परेशानी का सामना करना पड़ता था. मंत्रालय के मुताबिक यह सुविधा रक्षा कर्मियों के साथ-साथ केंद्र और राज्य सरकार के कर्मचारियों के लिए स्वैच्छिक आधार पर होगी. साथ ही साथ इसका फायदा उन्हें भी होगा जिन प्राइवेट कंपनियों के कर्मचारियों के ऑफिस कई राज्यों में हैं.

यह भी पढ़ेंः Indian Railways: अब बिना टिकट को कैंसिल किए भी बदल सकते हैं यात्रा की तारीख

ऐसा होगा फॉर्मेट

सरकार की नई BH सीरीज का रजिस्ट्रेशन फॉर्मेट YY BH 5433 XX होगा. इसमें YY का मतलब रजिस्ट्रेशन ईयर से होगा. BH भारत सीरीज का कोड होगा. चार अंकों की संख्या और XX दो अक्षर होंगे. बता दें इसकी शुरुआत 15 सितंबर से शुरू हो जाएगी.

केंद्र सरकार द्वारा जारी की गई नोटिफिकेशन के मुताबिक नई BH सीरीज के तहत 10 लाख रुपये से कम प्राइस वाली कार का रजिस्ट्रेशन करवाता है तो उसे करीब आठ प्रतिशत व्हीकल टैक्स देना होगा, जबकि 10 से 20 लाख रुपये के बीच की गाड़ी के लिए 10 प्रतिशत तक टैक्स देना होगा. इसके अलावा 20 लाख रुपये से ज्यादा की कीमत की गाड़ी के लिए आपको 12 प्रतिशत टैक्स देना होगा. डीजल पर दो प्रतिशत एक्सट्रा जबकि इलेक्ट्रिक व्हीकल पर दो फीसदी कम टैक्स देना होगा.

यह भी पढ़ेंः सितंबर महीने हो रहा है आपकी जेब पर असर डालने वाले बदलाव, जान लें