गुजरात के मोटेरा में स्थित दुनिया के सबसे बड़े स्टेडियम का नाम अब बदल कर 'नरेंद्र मोदी क्रिकेट स्टेडियम' कर दिया गया था. पहले इसका नाम सरदार पटेल स्डेडियम था. 24 फरवरी इस स्टेडियम में पहला इंटरनेशनल मैच खेला गया. लेकिन स्डेडियम के नाम बदलने से पूरे देश में विपक्ष की ओर से आलोचना की जा रही है. वहीं, NCP ने कहा है कि बीजेपी अब सारी सीमाएं पार कर रही है.

यह भी पढ़ेंः विराट कोहली को नहीं पसंद आया नरेंद्र मोदी स्टेडियम! जानें भारतीय कप्तान ने क्या कमी निकाली

महाराष्ट्र सरकार में मंत्री एवं एनसीपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता नवाब मलिक ने आरोप लगाया कि बीजेपी ‘‘सभी हदों को पार करते’’ हुए अब अस्पतालों और स्टेडियमों तक के नाम बदल रही है.

उन्होंने दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मुद्दे पर अभी तक कोई टिप्पणी नहीं की है जोकि दर्शाता है कि अहमदाबाद में स्टेडियम का नाम बदले जाने को उनकी मंजूरी प्राप्त थी.

अहमदाबाद में बुधवार को सरदार पटेल स्टेडियम का उद्घाटन हुआ और उसका नाम नरेंद्र मोदी के नाम पर रखा गया.

यह भी पढ़ेंः Motera Stadium के बारे में 7 बातें, जहां भारत-इंग्लैंड के बीच खेला जाएगा Day-Night टेस्ट मैच

मलिक ने कहा, यह खुशी की बात है कि दुनिया का सबसे बड़ा स्टेडियम भारत में बना है.

उन्होंने आरोप लगाया, ''नाम बदलने की अपनी होड़ में बीजेपी सारी हदें पार कर रही है. इससे पहले उन्होंने शहरों के नाम बदले और अब तो भारत रत्न से सम्मानित हस्तियों के नाम वाले अस्पतालों और स्टेडियम के नाम तक बदले जा रहे हैं.''

यह भी पढ़ेंः नरेंद्र मोदी स्टेडियम, अडानी और रिलायंस एंड को लेकर राहुल गांधी ने कसा तंज