कानपुर एनकाउंटर का मुख्य आरोपी और हिस्ट्रीशीटर विकास दूबे को उज्जैन में मध्य प्रदेश पुलिस ने धड़ दबोचा है. हालांकि, अब सवाल उठ रहा है कि विकास दुबे ने खुद सरेंडर किया है या उसे पुलिस ने गिरफ्तारी की है. इस मामले में समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने सवाल किया है.

अखिलेश यादव ने कहा है कि, 'खबर आ रही है कि ‘कानपुर-काण्ड’ का मुख्य अपराधी पुलिस की हिरासत में है. अगर ये सच है तो सरकार साफ करे कि ये आत्मसमर्पण है या गिरफ़्तारी. साथ ही उसके मोबाइल की CDR सार्वजनिक करे जिससे सच्ची मिलीभगत का भंडाफोड़ हो सके.'

क्या विकास दुबे ने खुद किया सरेंडर?

विकास दुबे जिसे पूरी उत्तर प्रदेश पुलिस समेत आस-पास की राज्य पुलिस खाक छान रही थी उसे उज्जैन के महाकाल मंदिर के पास से पकड़ा गया है. हालांकि, सवाल है कि क्या विकास दुबे ने खुद सरेंडर किया है. अब तक जो जानकारी मिली है, उसके अनुसार विकास दुबे उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर पहुंचा. वहां उसने खुद शोर मचाकर विकास दुबे सभी को बता रहा था कि वह 'कानपुर वाला विकास दुबे है'.

वहीं, अब विकास दुबे को अब यूपी पुलिस को सौंपने की तैयारी की जा रही है. सीएम शिवराज सिंह ने यूपी के सीएम योगी आदित्नाथ से इस मामले में बात की है.

बता दें कि विकास दुबे को यूपी पुलिस लगातार तलाश रही थी. आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद उस पर पुलिस ने पांच लाख रुपये का इनाम भी रखा था. वहीं, उसे फरीदाबाद में भी ट्रेस किया गया था लेकिन वहां से भी वह फरार होने में कामयाब हुआ. विकास दुबे कानपुर एनकाउंटर की घटना के 7वें दिन पकड़ा गया है. अब पुलिस आगे की कार्रवाई में जुट गई है.