किसान आंदोलन को लेकर देशभर में सियासत चल रही है. वहीं, किसान अपनी मांगों को लेकर डटे हुए हैं. इधर सरकार भी अपने फैसले पर अडिग है. इस बीच योगगुरु बाबा रामदेव ने गुरुवार को कहा कि सरकार और किसान दोनों जिद छोड़ देनी चाहिए. उन्होंने कहा दोनों को जिद छोड़कर बातचीत के जरिये अपनी समस्या का समाधान करें.

उन्होंने कहा कि किसान आन्दोलन पर कुछ बातें किसानो और कुछ बातें सरकार को मान लेनी चाहिए.

उल्लेखनीय है कि योगगुरु बाबा रामदेव सहारनपुर पतंजलि के एक कार्यक्रम में शामिल होने आए थे.

दिल्ली जलबोर्ड ऑफिस में तोड़फोड़, AAP नेता राघव चड्ढा ने BJP कार्यकर्ताओं पर लगाया हमला करने का आरोप

उन्होंने कहा कि किसानों का आन्दोलन यदि और बढ़ता है तो यह राष्ट्रहित में नहीं होगा, इसलिए किसानों और सरकार को एक दूसरे की बात मानकर कोई बीच का रास्ता निकालना चाहिए.

योगगुरु ने कहा कि किसानों के कारण देश आत्मनिर्भर बन रहा है, पतंजलि भी इस दिशा मे सहयोग कर रहा है.

अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन परियोजना को बड़ा झटका, TMC ने भूमि सौंपने के प्रस्ताव को किया खारिज

बाबा रामदेव ने देशवासियो से स्वदेशी सामान अपनाने की अपील की. उनका कहना है कि विदेशी शिक्षा और विदेशी चिकित्सा उचित नहीं है.