जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में दो साल पहले हुए आतंकवादी हमले में अपने 40 सैनिकों को खोने वाले केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) ने रविवार को कहा कि देश उस हमले के जिम्मेदारों को ''माफ नहीं करेगा'' और जवानों के सर्वोच्च बलिदान को ''नहीं भूलेगा.''

हमले की दूसरी बरसी के मौके पर जम्मू-कश्मीर के लेथपुरा में सीआरपीएफ के कैंप में एक श्रद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया किया गया.

'करीब 18 ताबूत खाली भिजवाने पड़े थे', पुलवामा हमले की बरसी पर इंडियन आर्मी का ये Video आंखे नम कर देगा

दिल्ली में सीआरपीएफ मुख्यालय से डिजिटल माध्यम से बल के वरिष्ठ अधिकारियों ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया. सीआरपीएफ के प्रवक्ता उपमहानिरीक्षक (डीआईजी) मोजेज दिनाकरण ने यह जानकारी दी.

बल ने ट्वीट किया, ''न माफ करेंगे, न भूलेंगे. पुलवामा हमले में राष्ट्र के लिये सर्वोच्च बलिदान देने वाले हमारे भाइयों को सलाम. उनके आभारी हैं. हम अपने वीर जवानों के परिवारों के साथ खड़े हैं.''

पुलवामा हमले के बाद भारतीय वायु सेना ने 26 फरवरी 2019 को पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी शिविरों को निशाना बनाकर हवाई हमले किये थे.

अक्षय कुमार और गौतम गंभीर सहित इन Indian Celebrities ने पुलवामा अटैक में शहीदों को किया याद, कही ये बात

सीआरपीएफ के महानिदेशक ए पी माहेश्वरी ने ड्यूटी के समय जान गंवाने वाले 40 कर्मियों को समर्पित एक वीडियो पुस्तक का विमोचन भी किया.

प्रवक्ता ने माहेश्वरी के हवाले से कहा, ''वीरता हमें विरासत में मिली है, जो हमारी रगों में खून की तरह दौड़ती है.''

दिनाकरण ने कहा, ''इस वीडियो पुस्तक में 80 कड़ियों और 300 मिनट की विषयवस्तु है. पुस्तक की एक-एक प्रति पुलवामा आत्मघाती बम हमले में जान गंवाने वाले जवानों के परिवारों को भी भेजी जाएगी.''

चंडीगढ़ के नर्सिंग कॉलेज छात्र को पाकिस्तानी आतंकियों ने दी थी जम्मू में IED लगाने के निर्देश