दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने लक्ष्मी नगर के रमेश पार्क से एक आतंकी को गिरफ़्तार किया है, जो पाकिस्तान का नागरिक है. वह फर्जी आईडी के साथ रह रहा था. उसके पास से एक AK-47 राइफल, ग्रेनेड सहित अन्य कई हथियार जब्त़ किए गए हैं.

गिरफ़्तार किए गए शख्स की पहचान मोहम्मद असरफ के रूप में हुई है. जिस पर गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम, विस्फोटक अधिनियम, शस्त्र अधिनियम और अन्य प्रावधानों के प्रासंगिक प्रावधान के तहत मामला दर्ज़ किया गया है.

यह भी पढ़ें: देश में कोरोना के 14,313 नए मामले, पिछले 224 दिन में सबसे कम हैं

पुलिस उपायुक्त (विशेष प्रकोष्ठ) प्रमोद सिंह कुशवाहा ने कहा कि पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का निवासी मोहम्मद अशरफ उर्फ अली बांग्लादेश के रास्ते भारत आया था और जाली दस्तावेजों के जरिए भारतीय पहचान पत्र हासिल करने के बाद 10 साल से देश में रह रहा था.

डीसीपी ने कहा कि वह मौलाना (धार्मिक उपदेशक) के रूप में खुद को पेश कर रहा था और उसे सोमवार रात गिरफ्तार कर लिया गया. उन्होंने कहा कि अशरफ को स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद सीधे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई ने भर्ती किया था और छह महीने तक प्रशिक्षित किया गया था.

अधिकारियों ने कहा कि अशरफ एक आईएसआई हैंडलर के संपर्क में था, जिसकी पहचान उसने नासिर के रूप में की और उसे सुनियोजित आतंकी हमले के बारे में जानकारी हासिल करनी थी. उन्होंने बताया कि उसने 10 साल की अवधि में पांच-छह ठिकाने बदले हैं.

उन्होंने कहा कि वह कभी किसी खास जगह पर ज्यादा देर तक नहीं रुका और दस्तावेज हासिल करने के लिए उसने यहां एक महिला से शादी भी कर ली. 

उसकी निशानदेही पर एक एके-47 और कई अन्य हथियार और गोला-बारूद बरामद किया गया है. पुलिस ने कहा कि अशरफ को गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम, विस्फोटक अधिनियम और शस्त्र अधिनियम के प्रासंगिक प्रावधानों के तहत गिरफ्तार किया गया है. पुलिस को संदेह है कि वह एक आतंकी मॉड्यूल का हिस्सा है. उन्होंने कहा कि आगे की जांच की जा रही है कि क्या आतंकी हमले की योजना बनाई गई थी.

यह भी पढ़ें: प्रियंका गांधी आज लखीमपुर खीरी जाएंगी, मृत किसानों के 'अंतिम अरदास' में शामिल होंगी