कोविड-19 के खतरे को देखते हुए शुक्रवार को होने वाले टोक्यो ओलंपिक खेलों के उद्घाटन समारोह में 44 से अधिक भारतीय एथलीट हिस्सा नहीं लेंगे. 

जिन एथलीटों की अगले दिन प्रतियोगिताएं हैं, उन्हें पहले ही इस आयोजन को छोड़ने के लिए कहा गया है. छह अधिकारियों के साथ मार्च पास्ट के दौरान कुल भारतीय उपस्थिति 50 हो जाएगी. 

ये भी पढ़ें: Tokyo Olympics 2021: 5 भारतीय एथलीट जो गोल्ड मेडल जीतने के सबसे बड़े दावेदार हैं

भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव राजीव मेहता ने कहा, "हम ऐसी स्थिति नहीं बनाना चाहेंगे जहां हमारे एथलीटों के संक्रमित होने का खतरा हो. इसलिए उद्घाटन समारोह में भाग लेने वाले एथलीटों और अधिकारियों की संख्या को 50 के भीतर सीमित करने का निर्णय लिया गया है."  

ये भी पढ़ें: क्या सानिया मिर्जा से टोक्यो ओलंपिक में मेडल जीतने की उम्मीद लगा सकते हैं?

भारत का प्रतिनिधित्व खेलों में 125 से अधिक एथलीट कर रहे हैं, सभी को मिलाकर कुल संख्या 228 है, जिसमें अधिकारी, कोच, अन्य सहायक कर्मचारी शामिल हैं. इसमें COVID-19 के मद्देनजर वैकल्पिक एथलीट भी हैं. 

10 मीटर एयर पिस्टल निशानेबाज सौरभ चौधरी, अभिषेक वर्मा, अपूर्वी चंदेला और इलावेनिल वलारिवन पहले दिन ही प्रतियोगिता में हिस्सा लेंगे, वह मनु भाकर, यशस्विनी सिंह देसवाल, दीपक कुमार और दिव्यांश सिंह पंवार के साथ ओपनिंग सेरेमनी का हिस्सा नहीं होंगे. 

ये भी पढ़ें: क्या Tokyo Olympics में मेडल ला पाएंगी पीवी सिंधु, देखिए कैसा रहा है उनका हालिया प्रदर्शन

उद्घाटन समारोह के अगले दिन मुक्केबाजों, तीरंदाजों और पुरुष और महिला हॉकी टीमों का भी मुकाबला होना है. ऐसे में वो भी ओपनिंग सेरेमनी से दूर रहेंगे.  

भारत ने उद्घाटन समारोह के लिए पुरुष हॉकी कप्तान मनप्रीत सिंह और छह बार की विश्व चैंपियन महिला मुक्केबाज एमसी मैरी कॉम को ध्वजवाहक के रूप में नामित किया है. 

ये भी पढ़ें: ऑस्ट्रेलिया के ब्रिसबेन में होगा 2032 ओलंपिक खेलों का आयोजन