प्रयागराज, 19 अप्रैल (भाषा) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह को प्रदेश में ऑक्सीजन का उत्पादन करने वाली सभी सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम इकाइयों से समन्वय स्थापित कर ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित कराने की जिम्मेदारी सोमवार को एक समीक्षा बैठक में सौंपी।

प्रदेश सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने पीटीआई-भाषा को फोन पर यह जानकारी देते हुए बताया कि इससे प्रदेश में ऑक्सीजन तैयार करने वाली छोटी इकाइयों से सीधे अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी।

उन्होंने कहा कि इस कार्य के लिए उनकी अध्यक्षता में एक समिति गठित की जाएगी जो प्रदेश में ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए समन्वय का काम करेगी।

सिंह ने कहा कि प्रदेश में एमएसएमई नियंत्रण कक्ष स्थापित कर प्रदेश के ऑक्सीजन प्लांट और सभी अस्पतालों की मैपिंग कर ऑक्सीजन की आवश्यकता पूरी की जाएगी।

मंत्री ने कहा कि प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी नहीं है। डीआरडीओ की सहायता से अगले 2-3 दिनों में 220 सिलेंडर वाला ऑक्सीजन प्लांट स्थापित हो जायेगा।

उन्होंने कहा कि ''हब एंड स्पोक मॉडल'' के जरिए औद्योगिक इकाइयों एवं उत्तर प्रदेश के 75 जिलों के अस्पतालों को एमएसएमई नियंत्रण कक्ष से जोड़कर समन्वय और तालमेल से वैश्विक कोरोना महामारी के कठिन दौर में कठिनाइयों को कम किया जाएगा।

सिंह ने बताया कि मैपिंग से किन-किन अस्पतालों को कितनी ऑक्सीजन की आवश्यकता है, यह समझना आसान हो जाएगा।

भाषा राजेंद्र शफीक