कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने कहा कि भारत एक ऐसा अनूठा संसदीय लोकतंत्र है जहां कोई प्रश्न नहीं पूछा जाता है और कोई बहस नहीं होती है. लद्दाख में जारी गतिरोध के मुद्दे पर लोकसभा में पार्टी को नहीं बोलने देने के बाद चिदंबरम ने ट्विट कर टिप्पणी की.

पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ सीमा पर जारी गतिरोध पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के बयान देने के बाद कांग्रेस को बोलने की अनुमति नहीं दिए जाने से नाराज कांग्रेस के सदस्यों ने लोकसभा वॉकआउट किया और संसद भवन परिसर में महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने एकत्र होकर विरोध-प्रदर्शन किया.

चिदंबरम ने ट्वीट किया, '' आज भारत एक ऐसा अनूठा संसदीय लोकतंत्र है जहां कोई प्रश्न नहीं पूछा जाता सकता है और जहां बहस की अनुमति नहीं है.''

उन्होंने लॉकडाउन के दौरान जान गंवाने वाले प्रवासियों का आंकड़ा उपलब्ध नहीं होने के केंद्र सरकार के बयान पर भी हमला किया और कहा कि, भारत आज एक ऐसा अनोखा देश बन गया है, जहां ऐसे प्रवासियों का कोई डेटा नहीं है, जो घर वापस आने के बाद लंबे समय तक घर पर रहे या मर गए.

वरिष्ठ नेता ने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा, '' भारत आज एक अनोखी अर्थव्यवस्था है जहां जीडीपी के 1.7 प्रतिशत तक नकद या अनाज हस्तांतरण को 'पर्याप्त राजकोषीय प्रोत्साहन' माना जाता है.

उन्होंने आगे कहा, भारत आज एक चमत्कारिक राष्ट्र है, जहां 3 महीने में 'सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था' से 'सबसे तेजी से डूबती विकास' वाली अर्थव्यवस्था में बदल गई है.