दिल्ली में डीडीए पार्क हस्तसाल गांव में 16 पक्षियों की असामान्य तरीके से मौत की खबर है और उनके नमूने एक जांच प्रयोगशाला को भेज दिये गये हैं. देश में बर्डफ्लू के बढ़ते मामलों के बीच कुछ हिस्सों से और भी पक्षियों की मौत की खबरें आई हैं, वहीं हरियाणा सरकार पंचकूला के कुछ पॉल्ट्री नमूनों के एवियन फ्लू से संक्रमित होने की पुष्टि होने के बाद 1.60 लाख से अधिक पक्षियों को मारने की योजना बना रही है.

केंद्र सरकार ने कहा कि अब तक केरल, राजस्थान, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और गुजरात में बर्ड फ्लू की दस्तक की पुष्टि हुई है. केंद्र ने इन छह राज्यों से कार्ययोजना के मुताबिक एवियन इन्फ्लुएंजा पर रोकथाम के लिए कहा है.

एक आधिकारिक बयान के अनुसार, ‘‘पता चला है कि केरल के दोनों प्रभावित जिलों में पक्षियों को मारने की प्रक्रिया पूरी हो गयी है. संक्रमणमुक्त करने की प्रक्रिया चल रही है.’’

इसमें कहा गया है कि एवियन इन्फ्लुएंजा (एआई) से अब तक अप्रभावित राज्यों से पक्षियों की असामान्य तरीके से मौत की घटना पर नजर रखने का तथा तत्काल इसकी सूचना देने का अनुरोध किया गया है ताकि यथासंभव त्वरित समय में जरूरी कदम उठाये जा सकें.

केरल, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के दौरे के लिए केंद्रीय दलों को तैनात किया गया है.

सरकार ने कहा कि हरियाणा में पंचकूला जिले के दो पॉल्ट्री फॉर्म में एआई की पुष्टि हुई है. गुजरात के जूनागढ़ जिले में प्रवासी पक्षियों और राजस्थान के सवाई माधोपुर, पाली, जैसलमेर तथा मोहर जिलों में कौवों के नमूनों में संक्रमण का पता चला है. इसलिए पशुपालन विभाग ने प्रभावित राज्यों को एवियन इन्फ्लुएंजा पर कार्ययोजना के अनुसार बीमारी पर रोकथाम का सुझाव दिया.

हरियाणा के कृषि मंत्री जे पी दलाल ने शुक्रवार को कहा कि पंचकूला के कुछ पॉल्ट्री नमूनों के एवियन फ्लू से संक्रमित होने की पुष्टि हुयी है और इसके बाद वहां पांच कुक्कुट फार्मों में 1.60 लाख से अधिक पक्षियों को मारा जाएगा.

दलाल ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ पंचकूला के रायपुरी रानी ब्लॉक में सिद्धार्थ पॉल्ट्री फार्म के पांच नमूने जांच में एवियन फ्लू के ‘एच5एन 8 स्ट्रेन’ से संक्रमित पाये गये. यह इंफ्लूएंजा वायरस है.’’

उन्होंने कहा कि इसी तरह पंचकूला के नेचर पॉल्ट्री फार्म के कुछ पछियों के नमूनों में भी संक्रमण की पुष्टि हुयी. ये नमूने भोपाल की प्रयोगशाला में भेजे गये थे और उनकी रिपोर्ट अब आ चुकी है.

मंत्री ने कहा कि केंद्र के दिशानिर्देशों के अनुसार जिस किसी फार्म के पक्षी संक्रमित पाये जाते हैं, उसके एक किलोमीटर के दायरे में फार्मों के कुक्कुट पक्षियों को मार दिया जाना है. उसके अनुसार पंचकूला में पांच पॉल्ट्री फार्मों के करीब 1.66 लाख पक्षियों को मारना पड़ेगा.

दलाल ने कहा कि इन कुक्कुट फार्मों के कर्मियों को भी स्वास्थ्य विभाग द्वारा जांचा जाएगा और उन्हें वायरस निरोधक दवा दी जाएगी.

उल्लेखनीय है कि पंचकूला के कुछ फार्मों पर पिछले कुछ दिनों में चार लाख से अधिक पक्षी मर चुके हैं. राजस्थान के विभिन्न हिस्सों में अब तक 2,166 पक्षियों की मौत की खबर है. राज्य की राजधानी समेत 11 जिलों में बर्डफ्लू के मामले आये हैं.

एक सरकारी बयान में कहा गया है, ''दिल्ली के हस्तसाल विलेज के डीडीए पार्क में भी 16 पक्षियों की आकस्मिक मौत होने की खबर मिली है. दिल्ली के पशुधन विभाग ने ऐहतियाती कदम उठाते हुए नमूनों को आईसीएआर-निषाद भेज दिया है और जांच रिपोर्ट की प्रतीक्षा की जा रही है. ''

सरकार ने कहा कि पॉल्ट्री किसानों और आम लोगों (अंडे और चिकन के उपभोक्ताओं) के बीच बीमारी को लेकर जागरुकता बहुत महत्वपूर्ण है.

बयान में कहा गया है, ''चिकन और अंडों के सेवन को लेकर भरोसा पैदा करने से संबंधित पशुधन एवं डेयरी विभाग के सचिव का संप्रेषण स्वास्थ्य मंत्रालय को भेज दिया गया है. ''

बयान में कहा गया है कि स्वास्थ्य मंत्रालय से इस संबंध में पर्याप्त परामर्श जारी करने का अनुरोध किया गया है ताकि अफवाहों को लगाम लगाकर लोगो के बीच अंडों और चिकन के सेवन के प्रति भरोसा कायम किया जा सके.

बयान में कहा गया है , ''इसके अलावा, राज्यों से उन पॉल्ट्री या पॉल्ट्री उत्पादों के बारे में जागरूकता बढ़ाने का अनुरोध किया गया है जिन्हें उबालकर या पकाकर खाना सुरक्षित है. केन्द्र सरकार ने इस मामले में सहायता मुहैया कराने का आश्वासन दिया है.''

छत्तीसगढ़ के बालोद जिले में चार कौवे मृत मिले हैं. बालोद के जिलाधिकारी जन्मेजय महोबे ने शुक्रवार को बताया कि जिला मुख्यालय से लगभग 13 किलोमीटर दूर पोंडी गांव में अचानक कौवों की मौत होने की जानकारी मिली है. इस घटना के बाद क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग तथा मुर्गी पालकों को सतर्क कर दिया गया है.

महोबे ने बताया कि पक्षियों के कंकालों को एकत्र कर भोपाल के राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुरोग संस्थान भेजा गया है और जांच के बाद ही पता चल सकेगा कि कौवों की मौत बर्डफ्लू से हुई है या नहीं.

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने शुक्रवार को कहा कि राज्य सरकार बर्ड फ्लू से निपटने के लिए पूरी तरह सतर्क है और पोग बांध के आसपास के क्षेत्रों की निगरानी की जा रही है जहां अब तक 3,400 से अधिक पक्षियों की मौत हो चुकी है .

धर्मशाला स्थित कैबिनेट सभागार में ठाकुर ने बर्ड फ्लू की तैयारियों को लेकर समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि जिला प्रशासन, पशुपालन और वन्यजीव विभाग इसके प्रसार को फैलने से रोकने के लिए काम करें.

ठाकुर ने कहा कि पोंग बांध के आसपास के क्षेत्रों की पूरी निगरानी सुनिश्चित की जा रही है और त्वरित प्रतिक्रिया टीमें भी बनाई गई हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘कांगड़ा जिले के पोंग बांध क्षेत्र में बर्ड फ्लू के कारण अब तक 3,410 प्रवासी पक्षियों की मौत हो चुकी है और इन पक्षियों को पूरे प्रोटोकॉल के साथ दफनाया जा रहा है ताकि किसी भी स्तर पर संक्रमण का खतरा न हो.”

मुख्यमंत्री ने कहा कि पशुपालन विभाग और वन्यजीव विभाग की 65 टीमें पोंग बांध के आसपास के क्षेत्रों की निगरानी कर रही हैं.

उन्होंने कहा,‘‘ बर्ड फ्लू की गंभीरता को देखते हुए पशुपालन विभाग द्वारा पोल्ट्री के नमूने भी जांच के लिए आरडीडीएल जालंधर भेजे गए हैं. बर्ड फ्लू के बारे में लोगों को जागरूक करना भी जरूरी है और विभागीय अधिकारियों को भी इसके लिए जरूरी कदम उठाने चाहिए.”

गुजरात के जूनागढ़ जिले में दो मृत पक्षियों के नमूनों में बर्ड फ्लू संक्रमण की शुक्रवार को पुष्टि हुई.

राज्य में पहली बार संक्रमण के मामलों की पुष्टि हुई है.

जूनागढ़ के पशुपालन विभाग के उपनिदेशक डॉ. डी डी पनेरा ने कहा कि जिले की माणावदर तहसील के खारो बांध के निकट एक इलाके से तीन जनवरी को दो टिटहरियों को बचाया गया था, लेकिन बाद में बीमारी के कारण उनकी मौत हो गई.

पंजाब सरकार ने 15 जनवरी तक तत्काल प्रभाव से अन्य राज्यों से कुक्कुट पक्षियों के आयात पर रोक लगा दी है.