पपीता एक ऐसा फल है जिसे ज्यादातर लोगों पसंद करते हैं. पपीता आपको आसानी से बाजार में मिल जाएगा. जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में तो आसानी से आपको हर घरों में मिल जाएगा. ये फल कई मायनों में फायदेमंद है. लेकिन क्या आप जानते हैं पपीते क पत्ते भी शरीर के लिए जबसदस्त फायदेमंद माना जाता है. पपीते के पत्तों के जूस का सेवन करने से शरीर में कई स्वास्थ्य समस्याओं से बच सकते हैं. पपीता और इसके पत्ते औषधीय गुणों वाला होता है.

आपको बता दें, पपीते के पत्ते में विटामिन A,B, C, D और E के साथ-साथ कैरोटीन, फलेवोनोइड्स और एंटी ऑक्सीडेंट्स जैसे तत्व पाए जाते हैं. ये पोषक तत्वों से भरपूर माना जाता है. पपीते के पत्तों को सबसे ज्यादा डेंगू वायरस में इस्तेमाल किया जाता है. पपीते के पतों के जूस का सेवन करने से प्लेटलेट बढ़ाने में मदद मिल सकती है.

यह भी पढ़ेंः शरीर के लिए फायदेमंद है पपीता, लेकिन क्या आप जानते हैं इसके सेवन का तरीका

इम्यूनिटी बढ़ाएं

पपीते के पत्तों के जूस का सेवन करने से इम्यूनिटी को मजबूत बनाने के अलावा इंफ्केशन की समस्या को भी दूर किया जा सकता है. इस जूस को पीने से खून में वाइट ब्‍लड सेल्‍स और प्‍लेटलेट्स को बढ़ाया जा सकता है.

दूर करें आयरन की कमी

पपीते के पत्तों का जूस पीने से आयरन की कमी को भी दूर किया जा सकता है. क्योंकि ये ब्‍लड प्‍लेटलेट्स को बढ़ा सकता है. अगर आपके अंदर आयरन की कमी है तो आप पपीते के पत्तों के जूस का सेवन कर सकते हैं.

यह भी पढ़ेंः सावधान! अगर आप है पत्ता गोभी के शौकीन, तो इन बातों का अवश्य रखें ध्यान

डेंगू की बीमारी में फायदेमंद

डेंगू की बीमारी काफी परेशान करती है. लेकिन पपीते के पत्ते का जूस डेंगू की बीमारी में सबसे ज्यादा फायदेमंद माना जाता है. ये जूस इस बीमारी से लड़ने में मदद कर सकता है. इसके अलावा ये बुखार की वजह से गिरती प्लेटलेट्स और शरीर में हो रही कमजोरी को दूर करने में भी मदद कर सकता है.

महिलाओं के लिए फायदेमंद

पपीते के पत्ते का जूस महिलाओं के लिए काफी फायदेमंद होता है. दरअसल महिलाओं को अक्सर पीरियड्स के समय कई समस्याएं होती हैं. पीरियड्स की समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए आप पपीते के पत्तों का काढ़ा बनाकर पी सकती हैं.

यह भी पढ़ेंः डायबिटीज में फायेदमंद है करेला, लेकिन क्या आप जानते हैं इसके सेवन करने का तरीका

नोटः ये जानकारी एक सामान्य सुझाव है. इसे किसी तरह के मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें. आप इसके लिए अपने डॉक्टरों से सलाह जरूर लें.