भुवनेश्वर, 25 मई (भाषा) भीषण चक्रवाती तूफान ‘‘यास’’ के बुधवार को ओडिशा में दस्तक देने के मद्देनजर राज्य के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मंगलवार को अधिकारियों से कहा कि लोगों का जीवन बचाने के लिए हरसंभव कदम उठाए जाएं।

राज्य में चक्रवात की स्थिति का जायजा लेने के लिए पटनायक ने एक बैठक की। राज्य के तटीय इलाकों में 60 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलने और भारी बारिश होने से लोगों के जनजीवन पर इसका असर पड़ने लगा है।

ओडिशा के मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘हर जीवन अनमोल है, इसलिए जीवन रक्षा के लिए हरसंभव कदम उठाए जाने चाहिए।’’

चक्रवाती तूफान वर्तमान में 15 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रहा है और वर्तमान में यह पारादीप तट से करीब 180 किलोमीटर दूर है। ओडिशा सरकार ने इससे प्रभावित होने वाले जिलों की तरफ मानव बल, मशीन और दवाएं भेजी हैं।

विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) पी़ के. जेना ने समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री को सूचित किया, ‘‘चक्रवात भद्रक जिले में बासुदेवपुर और बालासोर जिले में बहनगा के बीच धर्मा बंदरगाह के नजदीक बुधवार को दस्तक देगा।’’

एसआरसी ने कहा कि बुधवार की सुबह चार बजे यह दस्तक देगा और सुबह आठ बजे तक यह काफी तीव्र होगा और 77 प्रखंडों को उच्च असर वाली श्रेणी में रखा गया है।

जेना ने बताया कि दस्तक देने के समय हवा की गति 140 से 155 किलोमीटर प्रति घंटे होगी।

एसआरसी ने कहा कि एनडीआरएफ की 52 टीम, ओडीआरएएफ की 60 टीम, अग्निशमन दल की 206 टीम और वन विभाग की लकड़ी काटने वाली 60 टीम को दस तटीय एवं आसपास के जिलों में तैनात कर दिया गया है।