प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 (NEP-2020) के तहत '21वीं सदी में स्कूली शिक्षा' पर एक सम्मेलन में हिस्सा लिया. इस सम्मेलन में पीएम मोदी ने बच्चों को संबोधित किया और शिक्षा से लेकर कई बातें कहीं. इस दौरान शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल भी उपस्थित हुए.

पीएम मोदी ने सम्मेलन में पूछा सवाल

पीएम मोदी ने ट्वीट के जरिए एक सवाल पूछा जिसपर बहुत से लोगों की प्रतिक्रियाएं आई हैं. पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'एक टेस्ट, एक मार्कशीट क्या बच्चों के सीखने की, उनके मानसिक विकास की पैरामीटर हो सकती है? आज सच्चाई ये है कि मार्कशीट, मानसिक प्रैशरशीट बन गई है. #shikshaparv'

पीएम मोदी ने स्किल्स को लेकर भी बातचीत की. उन्होंने कहा, 'हमें अपने छात्र को 21वीं सदी की स्किल्स के साथ आगे बढ़ाने का काम करना है. 21वीं सदी की स्किल्स में क्रिटिकल थिंकिंग, क्रिएटिविटी, कोलैबोरेशन, क्योरोसिटी और कम्युनिकेशन होगा.' पीएम मोदी ने आगे कहा, 'हमें एक वैज्ञानिक बात समझने की जरूरत है कि भाषा शिक्षा का माध्यम है, भाषा ही सारी शिक्षा नहीं है. जिस भी भाषा में बच्चा आसानी से सीख सके, उसी भाषा का प्रयोग पढ़ाई में होना चाहिए.'