प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए दिल्ली मेट्रो को नई सौगात दी है. इसकी मेजेंटा लाइन पर देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो को हरी झंडी दिखा दिया है. इस कार्यक्रम में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी शामिल हुए. पीएम मोदी ने दिल्ली मेट्रो की एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन पर सफर के लिए कॉमन मोबिलिटी कार्ड (NCMC) सेवा शुरू की है. मजेंटा लाइन 38 किलोमीटर लंबी लाइन है जिसपर कुल 25 मेट्रो स्टेशन बने हैं और यह पश्चिमी दिल्ली, दक्षिणी दिल्ली को नोएडा से जोड़ती है, यही लाइन सीधे डोमेस्टिक एयरपोर्ट से कनेक्ट होती है.

ANI के मुताबिक, दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए दिल्ली मेट्रो की मजेंटा लाइन पर देश की पहली चालक रहित मेट्रो को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. इस कार्यक्रम में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी शामिल हुए.

क्या हैं ड्राइवरलेस मेट्रो की खास बातें?

1. मेट्रो के चलने पर रियल टाइम मॉनिटरिंग होगी. इसमें ट्रेन के परिचालन से लेकर सिग्नलिंग सिस्टम तक जारी रहेगा. अगर सिग्नलिंग में कोई समस्या आई तो उसकी सूचना सीधे कंट्रोल रूम जाएगी.

2. ट्रेन के दोनों तरफ हाई एंड सीसीटीवी कैमरा लगेगा, इसके जरिए मेट्रो ट्रेन के आगे की लाइव फुटेज सीधे कंट्रोल रूम से मॉनिटर की जाएंगी. ट्रेन के अंदर लगे कैमरे की लाइव फुटेज भी कंट्रोल रूम में होगी. इतना ही नहीं इमरजेंसी में यात्री सीधे कंट्रोल रूम में चैट कर सकता है, जिसपर तुरंत कार्रवाई होगी.

3. ट्रेन में सेंसर लगे होंगे, जिससे अगर ट्रैक पर कोई दरार होगी या 40 किमी तक कोई भी चीज पड़ी होगी तो तुरंत सेंसर ब्रेक लग जाएगा. ट्रेन में ऑटोमैटिक ब्रेक लगेगा.

4. DMRC शुरुआत में मेट्रो यात्रियों के लिए एक रोमिंग मेट्रो की मदद की तैनाती करेगा. यह सहायक ट्रेन के अंदर रहेगा जो यात्रियों के बीच घूमता रहेगा. अगर किसी यात्री को कोई समस्या है या इमरजेंसी है तो वह रोमिंग मेट्रो सहायक उनकी मदद करेगा. शुरुआत में यह हर ट्रेन में होंगे लेकिन उसके बाद यह एक को छोड़ दूसरे में उपस्थित होगा.

5. आज के समय में डिपो से ट्रैक पर परिचालन के लिए ट्रेन को लाने में समय लगता है. DMRC के मुताबिक, चालक रहित मेट्रो में ये समस्या खत्म होगी सुबह 4 बजे से यह काम शुरू हो जाता है लेकिन चालक रहित मेट्रो में यह सुबह 5 बजे ही शुरू होगा.

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने दी बधाई

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, 'दिल्लीवासियों को मुबारक!, आज से दिल्ली मेट्रो में बिना ड्राइवर के ऑटमैटिक चालित मेट्रो ट्रेन चालू हो गयीं. आज आपकी “दिल्ली मेट्रो” दुनिया के चुनिंदा शहरों में शामिल हो गयी. अपनी दिल्ली तेज़ी से विकास कर रही है.'

बता दें, दिल्ली मेट्रो की ‘मेजेंटा लाइन’ पर भारत की पहली चालक रहित मेट्रो है. इसके साथ ही ‘एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन’ पर ‘नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड’ सेवा भी शुरू की. सरकार ने कहा है कि चालक रहित ट्रेनें पूरी तरह से स्वचालित होंगी. उसने बताया कि 2021 के मध्य तक ‘पिंक लाइन’ पर मजलिस पार्क और शिव विहार के बीच चालक रहित मेट्रो सेवा की शुरुआत की जाएगी. प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा कि इन नवाचारों से दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के अन्य शहरों के निवासियों के लिए सुखद परिवहन और अनुकूल यातायात के एक नए युग का सूत्रपात होगा.

दिल्ली में ‘एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन’ पर ‘नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड’ सेवा पूरी तरह से शुरू होने से देश के किसी भी भाग से जारी किए गए ‘रुपे-डेबिट कार्ड’ का इस्तेमाल यात्रा के लिए किया जा सकता है. यह सुविधा दिल्ली मेट्रो के समूचे नेटवर्क पर 2022 तक उपलब्ध कराई जाएगी.