देश में सिखों के 10वें गुरु 'गुरु गोबिंद सिंह' की 354वीं जयंती मनाई जा रही है. इस दिन को गुरु पर्व या प्रकाश पर्व के रूप में भी जाना जाता है. वहीं, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सिखों के 10वें गुरु, गुरु गोविंद सिंह की जयंती पर बुधवार को उन्हें नमन किया और कहा कि उनका जीवन न्यायसंगत और समावेशी समाज के निर्माण के लिए समर्पित था.

मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘प्रकाश पर्व के पवित्र मौके पर मैं श्री गुरु गोविंद सिंह को नमन करता हूं. उनका जीवन न्यायसंगत और समावेशी समाज के निर्माण के लिए समर्पित था. अपने सिद्धांतों के प्रति वे सदैव अटल रहे. हम उनके साहस और बलिदान को भी याद करते हैं.’’

प्रधानमंत्री ने कहा कि गुरु गोविंद सिंह की उन पर विशेष कृपा रही है क्योंकि उनके 350वें प्रकाश पर्व को मनाने का अवसर उनके कार्यकाल में आया.

गुरु गोविंद सिंह के 350वें प्रकाश पर्व के अवसर पर वर्ष 2017 में पटना साहिब में आयोजित समारोह को याद करते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें वहां भी गुरु साहिब को श्रद्धांजलि देने का अवसर मिला था.

वहीं, सिंधु बॉर्डर पर कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों ने गुरु गोबिंद सिंह के प्रकाश पर्व पर अरदास की. साथ ही एक प्रदर्शनकारी ने कहा, गुरु गोविंद सिंह हमारे 10वें गुरु हैं. उन्होंने सिख पंथ की नीव रखी थी. उनकी कुर्बानी बहुत बड़ी है.आज हमारी खुशी का ठिकाना नहीं है.

गुरु गोविंद सिंह का जन्म पटना में आज ही के दिन हुआ था. उनकी जयंती को प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जाता है.