प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि उनकी सरकार ने बहुत ही कम समय में पिछले चुनाव में किए बड़े वादों को पूरा करने का काम किया है. इनमें जम्मू एवं कश्मीर से अनुच्छेद 370 को निरस्त किया जाना और अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण शामिल है.

पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस में कही ये बात

भारतीय जनसंघ के अध्यक्ष रहे पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती के मौके पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकर्ताओं को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संबोधित करते हुए मोदी ने यह बात कही. उन्होंने संसद में पारित कृषि और श्रमिकों के कल्याण से संबंधित विधेयकों को उनके जीवन में व्यापक बदलाव लाने वाला करार दिया. मोदी ने कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने दशकों तक किसानों और श्रमिकों के नाम पर सिर्फ नारे लगाए और बड़ी-बड़ी घोषणाएं की जो ‘‘खोखले’’ साबित हुए.

प्रधानमंत्री ने कृषि सुधार संबंधी विधेयकों पर विपक्ष के विरोध को राजनीतिक स्वार्थ बताते हुए आरोप लगाया कि वे (विपक्ष) अफवाहें फैलाकर किसानों को भ्रमित करने का प्रयास कर रहे हैं. मोदी ने कहा, ‘‘बहुत ही कम समय के भीतर हमने दशकों से चले आ रहे मामलों को निपटाया है. अनेक बड़े वायदों को पूरा किया है. भाजपा के कार्यकर्ता के रूप में जिस संकल्प पत्र को लेकर आप घर-घर, द्वार-द्वार गए थे, आज जब देखेंगे तो पाएंगे कितनी तेजी से काम किया जा रहा है.’’ उन्होंने कहा कि हर घर जल की योजना हो या हर गांव तक तेज इंटरनेट का वादा, ये करोड़ों देशवासियों के जीवन को आसान बनाने वाले हैं. उन्होंने कहा, ‘‘इसमें आर्टिकल 370, अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण जैसे वह वादे भी शामिल हैं जो दशकों की हमारी तपस्या के आधार रहे हैं.’’ उन्होंने कहा कि संकल्प सिद्ध करने की हमारी ताकत को बनाए रखना है.

मोदी ने कहा कि आजादी के अनेक दशकों तक किसान और श्रमिक के नाम पर खूब नारे लगे, बड़े-बड़े घोषणा पत्र लिखे गए लेकिन समय की कसौटी ने सिद्ध कर दिया है वह सारी बातें कितनी खोखली थी. उन्होंने कहा, ‘‘सिर्फ नारे थे, खोखले वादे थे. देश अब इन बातों को भलीभांति जानता है.’’

पीएम मोदी ने विपक्ष पर कसा तंज

कांग्रेस व किसी अन्य दल का नाम लिए बगैर उन्होंने कहा कि ‘‘झूठ बोलने वाले’’ कुछ लोग इन दिनों अपने ‘‘राजनीतिक स्वार्थ’’ की वजह से किसानों के कंधे पर बंदूक चला रहे हैं, उन्हें भ्रमित कर रहे हैं और अफवाहें फैला रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘‘देश के किसानों को ऐसी किसी भी अफवाह से बचाना व कृषि सुधार का महत्व समझाना भाजपा के हम सभी कार्यकर्ताओं का बहुत बड़ा कर्तव्य है. हमारी जिम्मेवारी है क्योंकि हमें किसान के भविष्य को उज्जवल बनाना है. हम किसानों को कृषि सुधार की बारीकियों के बारे में जितना समझाएंगे उतना ही किसान जागरूक होगा.’’

प्रधानमंत्री ने कहा कि किसानों की तरह दशकों तक देश के श्रमिकों को भी कानूनों के जाल में उलझा कर रखा गया. श्रम सुधार कानूनों के तहत राजग की सरकार ने श्रमिकों के स्वास्थ्य, उनकी सुरक्षा, उनके वेतन को लेकर कानूनों को सरल और सहज बनाया है. उन्होंने कहा, ‘‘नए कानूनों के माध्यम से लगभग 50 करोड़ संगठित और असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को वेतन मिले, वह भी समय पर, इसे कानूनी रूप से अनिवार्य कर दिया गया है.