कोरोना वायरस महामारी के कारण सूक्ष्म, लघु और मध्यम उपक्रमों (MSME) सेक्टर दिक्कतों से जूझ रहा है. ऐसे में उन्हें ऋण की काफी जरूरत है. इस बीच सार्वजनिक क्षेत्र के पंजाब नेशनल बैंक (PNB) ने MSME के लिए पेश की गई तीन लाख करोड़ रुपये की आपातकालीन ऋण गारंटी योजना के तहत अब तक करीब तीन लाख खातों को ऋण की मंजूरी दी है.

पीएनबी बैंक के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस बात की जानकारी दी और कहा, बैंक ने 25 जून तक 2,96,753 एमएसएमई खातों को आपातकालीन ऋण गारंटी योजना के तहत 6,757 करोड़ रुपये के ऋण की मंजूरी दी है. इनमें से 59,204 खातों को 2,030 करोड़ रुपये वितरित किये जा चुके हैं.

बैंक ने एक ट्वीट में बताया, ‘‘भारत में 6.33 करोड़ से अधिक एमएसएमई हैं और इनकी संख्या लगातार बढ़ रही है. पीएनबी MSME उद्यमियों और उनके व्यवसायों की मदद करने के लिये कई उत्पादों की पेशकश करता है.’’

इस बीच बैंकिंग क्षेत्र से जुड़े कारोबारी एवं उद्योग संगठन CII के अध्यक्ष उदय कोटक ने आपातकालीन ऋण गारंटी योजना के तहत MSME को ऋण देने में तत्परता के लिये सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की शनिवार को सराहना की. उन्होंने कहा कि निजी क्षेत्र के बैंक भी जल्दी ही सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की बराबरी करने लगेंगे.

उल्लेखनीय है कि कोरोना संकट के बीच केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 20 लाख करोड़ रुपये के आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत इस योजना की घोषणा पिछले महीने की थी.