उत्तर प्रदेश के कासगंज जिले में मंगलवार देर रात शराब माफिया ने हमला कर एक सिपाही को मौत के घाट उतार दिया और एक दरोगा को बुरी तरह से घायल कर दिया. दरअसल पुलिस शराब माफिया को वारंट तामिल कराने के लिए पहुंची थी. लेकिन शराब माफिया ने पुलिस दल पर हमला किया गया. हमले में दरोगा गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. जबकि एक सिपाही की मौत हो गई है. इस घटना के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने कड़ी कार्रवाई करने के आदेश दिये हैं.

Uttarakhand Flood: अबतक 32 लोगों के शव बरामद हुए, सुरंग में फंसे 35 लोगों को बचाने की जंग जारी

जिलाधिकारी चंद्रप्रकाश सिंह ने संवाददाताओं को बताया, 'आज शाम को सिढ़पुरा थाने के दरोगा अशोक कुमार और आरक्षी देवेंद्र नगला धीमर गांव में एक वांछित अपराधी की तलाश में गए थे वहां दुर्भाग्यपूर्ण घटना घटी है, जिसमें हमारे साथी सिपाही देवेंद्र शहीद हो गए.'

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना का संज्ञान लेते हुए अपराधियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं.

साथ ही मृतक सिपाही के परिजन को 50 लाख रुपए और एक आश्रित को नौकरी देने की घोषणा की है. मुख्यमंत्री लगातार इस घटना की लगातार निगरानी रख रहे हैं. दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

घायल दारोगा अशोक कुमार ने अस्पताल में इलाज के दौरान बताया कि वह सिपाही देवेंद्र के साथ मोती नामक अपराधी को वारंट की तामील कराने गए थे तभी उसके साथियों ने उन्हें पकड़ लिया और बुरी तरह पीटा.

ऋषभ पंत ने उत्तराखंड आपदा में प्रभावितों की इस तरह की मदद, लोगों से भी की ये खास अपील

इस बीच, राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने लखनऊ में बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कासगंज की घटना का संज्ञान लेते हुए दोषियों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिए हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार अपराध और अपराधियों के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति पर कार्य कर रही है. कानून व्यवस्था के सम्बन्ध में किसी भी प्रकार का समझौता न करते हुए सम्बन्धित दोषियों के विरुद्ध अविलम्ब व सख्त कार्रवाई की जाए.

उत्तराखंड की मदद के लिए योगी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, मुआवजे का भी किया ऐलान