भारतीय एथलीट प्रवीण कुमार ने टोक्यो पैरालंपिक 2020 में सिल्वर मेडल जीतकर भारत के पदकों की संख्या को 11 पर पहुंचा दिया है. 18 वर्षीय प्रवीण कुमार (स्पोर्ट्स क्लास T44) ने मेंस हाई जंप के T64 कैटेगरी में सिल्वर मेडल जीता. ग्रेट ब्रिटेन के जोनाथन ब्रूम एडवर्ड में इस इवेंट का गोल्ड मेडल जीता, जबकि पोलैंड के एथलीट Maciej Lepiato ने ब्रॉन्ज मेडल पर कब्ज़ा जमाया. 

ग्रेट ब्रिटेन के जोनाथन ब्रूम एडवर्ड ने 2.10 मीटर की ऊंचाई लांघी, वहीं पहली बार पैरालंपिक्स में हिस्सा ले रहे भारत के प्रवीण कुमार 2.07 की ऊंचाई ही लांघ सके. पोलैंड के एथलीट Maciej Lepiato 2.04 की ऊंचाई लांघकर तीसरे स्थान पर रहे. प्रवीण ने सिल्वर मेडल जीतने के लिए एशियाई रिकॉर्ड तोड़ा है. 

T64 वर्गीकरण एक पैर के विच्छेदन वाले एथलीटों के लिए है, जो खड़े होने की स्थिति में प्रोस्थेटिक्स के साथ प्रतिस्पर्धा करते हैं.

यह भी पढ़ें: Tokyo Paralympics: मरियप्पन थंगावेलु ने सिल्वर और शरद कुमार ने ब्रॉन्ज मेडल जीता

कुमार, स्पोर्ट्स क्लास T44 के एथलीट हैं, लेकिन वो T64 में हिस्सा लेने के लिए योग्य हैं. एक पैर की कमी, पैर की लंबाई में अंतर, बिगड़ी हुई मांसपेशियों की शक्ति या पैरों में गति की निष्क्रियता वाले एथलीट T64 में हिस्सा लेने के योग्य होते हैं.

कुमार की विकलांगता, जो जन्मजात होती है, उन हड्डियों को प्रभावित करती है जो उसके कूल्हे को उसके बाएं पैर से जोड़ती हैं.

टोक्यो पैरालंपिक्स में अब तक भारत दो गोल्ड, छह सिल्वर और तीन ब्रॉन्ज मेडल जीतकर 36वें स्थान पर है. शूटिंग में अवनि लेखरा और जैवलिन थ्रो में सुमित अंतिल अभी तक भारत के लिए दो स्वर्ण पदक लेकर आए हैं. ये भारत का अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है. रियो पैरालंपिक्स 2016 में भारत ने दो गोल्ड, एक सिल्वर और एक ब्रॉन्ज मेडल जीता था. 

यह भी पढ़ें: सुमित अंतिल और अवनि लखेरा को भी मिलेगी Mahindra XUV700 स्पेशल एडिशन