कोरोना वायरस मामलों की संख्या में तेजी से वृद्धि के बीच पंजाब सरकार ने घोषणा की कि पांचवीं, आठवीं और दसवीं कक्षाओं के छात्रों को बिना परीक्षा के ही अगली कक्षा में प्रोन्नत किया जाएगा. पंजाब राज्य परीक्षा बोर्ड 12वीं कक्षा की परीक्षाओं पर कोई निर्णय बाद में स्थिति के आधार पर करेगा. फिलहाल यह परीक्षा स्थगित कर दी गयी है.

एक सरकारी बयान के अनुसार, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की अध्यक्षता में कोविड​​-19 समीक्षा बैठक के दौरान यह निर्णय लिया गया.

यह भी पढ़ेंः जान लें, किन-किन राज्यों में टाली गई है बोर्ड परीक्षाएं

राज्य सरकार की यह घोषणा केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित दसवीं कक्षा की परीक्षाओं को रद्द किए जाने और 12वीं की परीक्षाओं को स्थगित करने के ऐलान के एक दिन बाद हुई.

यह भी पढ़ेंः Board Exams को लेकर CBSE के फैसले के बाद CISCE ने क्या कहा? जानें

पांचवीं कक्षा के छात्रों के लिए पांच में से चार विषयों की परीक्षाएं पहले ही आयोजित की जा चुकी हैं, इसलिए पंजाब राज्य शिक्षा बोर्ड चार विषयों में प्राप्त अंकों के आधार पर परिणाम घोषित कर सकता है.

यह भी पढ़ेंः Weekend Curfew in Delhi: जान लें दिल्ली में बंद और खुली सेवाओं की लिस्ट

मुख्यमंत्री ने शिक्षा विभाग को निर्देश दिया कि आठवीं और दसवीं कक्षाओं के परिणाम प्री-बोर्ड परीक्षाओं या स्कूलों के आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर घोषित किए जा सकते हैं.

सिंह ने पिछले दिनों केंद्रीय शिक्षा मंत्री को परीक्षा के मुद्दे पर पत्र लिखा था. सिंह ने भी 12वीं कक्षा की सीबीएसई परीक्षा को स्थगित करने और 10वीं की परीक्षा रद्द करने के केंद्र के फैसले पर संतोष जताया.

यह भी पढ़ेंः दिल्ली के किस अस्पताल में कितने बेड खाली हैं? कैसे जानें

बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री ओपी सोनी, शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला, मुख्य सचिव विनी महाजन और पुलिस महानिदेशक दिनकर गुप्ता भी उपस्थित थे.

पंजाब शिक्षा बोर्ड ने पिछले महीने 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं को करीब एक महीने के लिए टाल दिया था.