नयी दिल्ली, 19 अप्रैल (भाषा) पंजाब के किसानों को पहली बार रबी फसल की खरीद पर प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (डीबीटी) के जरिये सीधे उनके खातों में पैसा डाला जा रहा है। केंद्रीय खाद्य मंत्रालय ने सोमवार को बयान में कहा कि पिछले एक सप्ताह के दौरान किसानों को फसल का 202.69 करोड़ रुपये स्थानांतरित किया गया है।

काफी समझाने के बाद पंजाब सरकार ने रबी मौसम की फसल की खरीद पर न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के भुगतान के लिए 10 अप्रैल से डीबीटी भुगतान प्रणाली को लागू करने पर अपनी सहमति जताई।

पंजाब और अन्य राज्यों में अभी गेहूं की खरीदारी चल रही है।

मंत्रालय ने बयान में कहा, ‘‘पहली बार पंजाब के किसानों को उनकी फसल का भुगतान सीधे उनके खाते में डाला जा रहा है।’’

बयान में कहा गया है कि सार्वजनिक खरीद के इतिहास में इस साल नया अध्याय लिखा गया है और हरियाणा और पंजाब भी एमएसपी के ऑनलाइन स्थानांतरण के लिए तैयार हुए हैं।

पंजाब और हरियाणा के किसान पहली बार यह देख रहे हैं कि उनकी फसल का खरीद मूलय बिना किसी देरी के सीधे उनके खातों में पहुंच रहा है।

पंजाब से 2021- 22 के चालू विपणन सत्र में अब तक 41.8 लाख टन गेहूं की खरीद एमएसपी पर हुई है। 18 अप्रैल तक पंजाब में 202.69 करोड़ रुपये और हरियाणा में 1,417 करोड़ रुपये किसानों के खातों में हस्तांतरित किये जा चुके हैं।

केन्द्रीय मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक देशभर में अब तक 121.7 लाख टन गेहूं की खरीदारी की जा चुकी है। देशभर में 11.6 लाख किसानों को इस खरीद का अब तक लाभ मिला है।

भाषा अजय

अजय महाबीर

महाबीर