चंडीगढ़, 28 अप्रैल (भाषा) पंजाब सरकार ने बुधवार को आर्शीवाद योजना के तहत वित्तीय सहायता 21,000 रुपये से बढ़ाकर 51,000 रुपये प्रति लाभार्थी कर दी।

कांग्रेस 2017 में सत्ता में आने से पहले आर्शीवाद योजना के तहत सहायता राशि बढ़ाने का वादा किया था।

मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह की अध्यक्षता में मंत्री परिषद की वीडियो कांफ्रेन्स के जरिये बैठक में यह निर्णय किया गया। बढ़ी हुई सहायता एक जुलाई, 2021 से प्रभाव में आएगी।

यह दूसरा मौका है जब योजना राशि बढ़ायी गयी है। इससे पहले, 2017 में सत्ता में आने के तुरंत बाद मौजूदा सरकार ने सहायता राशि 15,000 रुपये से बढ़ाकर 21,000 रुपये कर दी थी। साथ ही योजना का नाम शगुन से बदलकर आर्शीवाद कर दिया था।

इससे 60,000 लाभार्थियों को लाभ मिलने और सरकारी खजाने पर 180 करोड़ रुपये का बोझ पड़ने का अनुमान है।

इस योजना के तहत वित्तीय सहायता अनुसूचित जाति, ईसाई, पिछड़े वर्ग की महिलाओं, किसी भी जाति की विधवा महिलाओं की बेटियों को शादी के लिये दी जाती है।