.. राजीव शर्मा ..

सत्य और अहिंसा का संदेश देने वाले महात्मा गांधी के सिद्धांतों को आज समूचा विश्व नमन कर रहा है। गांधी के साथ उस समय के कई प्रसिद्ध नेता और नायक जुड़े, जिन्हें हम जानते हैं, लेकिन एक सज्जन ऐसे भी हैं जो गुमनाम ही रहे।  

उनका नाम बतख मियां अंसारी था। उन्होंने महात्मा गांधी की जान बचाई थी। दरअसल तत्कालीन अंग्रेज सरकार महात्मा गांधी की अहिंसक नीतियों से बहुत परेशान थी और उन्हें 'रास्ते से हटाना' चाहती थी। इसके लिए जहर का इंतजाम किया गया और खाने में मिलाकर गांधी तक पहुंचा दिया गया। तब बतख मियां ने गांधी को यह संकेत दिया कि खाने में जहर है, सावधान रहें।

एक ग़रीब परिवार में जन्मे बतख मियां मोतिहारी नील कोठी में बतौर खानसामा नौकरी करते थे। साल 1917 में जब महात्मा गांधी नील किसानों की समस्याओं से जुड़े मुद्दे उठाने के लिए चंपारण आए थे, तो अंग्रेजों ने उन्हें जहर देकर मारने की ठानी।  

एक दिन नील फैक्ट्रियों के मैनेजरों के नेता इरविन ने महात्मा गांधी को बातचीत का प्रस्ताव भेजा। गांधी वहां गए तो इरविन 'पूरी तैयारी' कर चुके थे। इरविन के दुष्ट इरादों की भनक बतख मियां को लग गई।  

खाने में जहर मिला दिया गया और बतख मियां को आदेश दिया कि वे ट्रे लेकर गांधी के पास जाएं। चूंकि बतख मियां वहां नौकरी करते थे, इसलिए अंग्रेज अधिकारी को मना नहीं कर सके। वे ट्रे लेकर गांधी के पास चले गए।  

महात्मा गांधी ने बतख मियां की ओर देखा, उनकी आंखों में आंसू थे। बतख मियां ने उन्हें इशारा कर दिया कि इस खाने में खतरा है, इसे न खाएं। गांधी उनका इशारा समझ गए और जहरीला खाना नहीं खाया। इसके बाद सब इतिहास है। गांधी भारत की स्वतंत्रता के महानायक बने लेकिन बतख मियां ने कभी इस बात का श्रेय नहीं लिया कि उन्होंने इस महान नेता की जान बचाई थी।

इसके बाद बतख मियां की जमीनें नीलाम कर दी गईंं। उन्हें जेल भेज दिया गया लेकिन इस महान देशप्रेमी ने किसी से कोई शिकायत नहीं की, बस चुपचाप तकलीफें सहन करते रहे।  

बीबीसी की एक रिपोर्ट के अनुसार, आज़ादी के बाद साल 1957 में जब देश के राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे तो अचानक उनकी नजर भीड़ में खड़े बतख मियां पर पड़ी। उन्होंने तुरंत उन्हें पहचान लिया और मंच से ही बोल पड़े- अरे बतख भाई, कैसे हो? राष्ट्रपति ने उन्हें मंच पर बुलाया और गांधी की जान बचाने का किस्सा सबको बताया। 

(अच्छी बातें पढ़ने के लिए इस वेबसाइट पर अपना अकाउंट बनाएं और मुझे फॉलो कीजिए)

#GandhiJayanti #MahatmaGandhi #Batakhmiya #islam #peaceinislam #islamandpeace #quran #holyquran #rajeevsharma #writer_rajeev_sharma